असफल परियोजनाओं पर काम करे भारत नहीं तो होगी विश्वास में कमीः नेपाल

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी ओली छह दिनों की भारत यात्रा यहां पहुंच गए है। इस बीच शुक्रवार को नेपाल की ओर से चेतावनी दी गई कि पूर्व द्विपक्षीय समझौतों...

असफल परियोजनाओं पर काम करे भारत नहीं तो होगी विश्वास में कमीः नेपाल

OLIनेपाल के प्रधानमंत्री केपी ओली छह दिनों की भारत यात्रा यहां पहुंच गए है। इस बीच शुक्रवार को नेपाल की ओर से चेतावनी दी गई कि पूर्व द्विपक्षीय समझौतों और परियोजनाओं के लागू नहीं हो पाने की दशा में नेपाल को विश्वास की कमी हो सकती है। उधर नेपाल अपने पड़ोसी चीन के साथ एक व्यापार और पारगमन संधि पर हस्ताक्षर करने की तैयारी में है। इससे भारत को नुकसान हो सकता है।

नेपाल के सूचना मंत्री एस राय ने कहा कि प्रधानमंत्री की भारत यात्रा का मुख्य उद्देश्य दोनों देशों के बीच मैत्री संबंधों को मजबूत करना है। इसमें कोई शक नहीं कि दोनों देशों के संबंध मुश्किल दौर से गुजरे हैं और पूर्व में कुछ कारणों से दोनों देशों के बीच कुछ गलतफहमी हुई है। हमें उन गलतफहमियों को दूर करने की आवश्यकता है। इसके साथ ही नेपाल-भारत संबंधों को मजबूत और हर समय के लिए जीवंत बनाने की जरूरत है। उल्लेखनीय है कि ओली ने पांच महीने पहले प्रधानमंत्री का पद संभाला था और उनकी यह छह दिवसीय यात्रा ओली की किसी अन्य देश की पहली यात्रा है।
सूचना मंत्री राय ने कहा कि नेपाल और भारत के बीच पूर्व में कई विकास परियोजनाओं पर हस्ताक्षर हुए हैं जो कुछ कारणों से लंबित हैं। इन परियोजनाओं के क्रियान्वयन में तेजी लाने की आवश्यकता है। यदि पूर्व के समझौते का क्रियान्वयन नहीं होता है या हाल ही में दोनों देशों के बीच हुई गलतफहमियां दूर नहीं होती हैं तो इससे विश्वास की कमी पैदा हो सकती है। सूचना मंत्री ने कहा कि इन गलतफहमियों को को दूर करने के लिए हम पूर्व की सहमति और समझौतों को पूरे तरीके से लागू करना चाहते हैं। इस बीच राय ने कहा कि नेपाल के राष्ट्रीय हित को ध्यान में रखते हुए दोनों देशों के अधिकारियों के बीच बातचीत होगी। उन्होंने कहा कि ओली भारत से लौटने के बाद जल्द ही चीन की यात्रा करेंगे।