भारत में अगर मुसलमान पर शक़ होगा...तो कश्मीर साथ नहीं हो पाएगा- फ़ारुख़ अब्दुल्ला

'अगर भारत में  मुसलमानों को संदेह भरी निगाह से देखा जाएगा....तो भारत कभी भी कश्मीर को अपने भरोसे में नहीं ले सकता' ये कहना है कि नेशनल कॉंफ्रेंस...

भारत में अगर मुसलमान पर शक़ होगा...तो कश्मीर साथ नहीं हो पाएगा- फ़ारुख़ अब्दुल्ला

Farooq-Abdullah2PTI

'अगर भारत में  मुसलमानों को संदेह भरी निगाह से देखा जाएगा....तो भारत कभी भी कश्मीर को अपने भरोसे में नहीं ले सकता' ये कहना है कि नेशनल कॉंफ्रेंस अध्यक्ष फ़ारुख़ अब्दुल्ला का।

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि अगर देश के मुसलमानों को शक़ की निगाह से देखने वाली और अल्पसंख्यकों को बहुसंख्यकों को एक दूसरे के खिलाफ भड़काने वाली ताकतों पर नियंत्रण नहीं लगाया गया....तो भारत...कश्मीर को साथ नहीं रख पाएगा।

फारुक़ अब्दुल्ला ने नेशनल कॉन्फ्रेंस के कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि ‘भारत में ऐसा तूफान खड़ा किया जा रहा है जो खतरे की घंटी है और अगर हम इसे नहीं समझते.....अगर हम हिंदुओं को मुसलमानों से भिड़ाना जारी रखते हैं.... तो मैं आपको बता रहा हूं कि वे यानि केन्द्र सरकार कश्मीर को साथ नहीं रख सकती.... और ये एक कड़वी सच्चाई है....चाहे आप इसे पसंद नहीं करते हों.....या नहीं....’।

उन्होंने कहा कि मुसलमान देश के दुश्मन नहीं है.....लेकिन उनको बावजूद इसके अब भी संदेह की नजर से देखा जाता है।
राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि ‘आज मुसलमान को संदेह की नजर से देखा जाता है.....क्या मुसलमान भारतीय नहीं है? क्या उसने देश के लिए कोई कुर्बानी नहीं दी? क्या आप ब्रिगेडियर उस्मान (1947 के भारत-पाक युद्ध में शहीद) को भूल गए?’ अब्दुल्ला ने कहा, ‘क्या आप उन सैनिकों को भूल गए जो मुसलमान थे और देश के लिए एवं आज भी लड़ रहे हैं?

मैं कहता हूं कि मुसलमान भारत के दुश्मन नहीं है. उन तत्वों पर काबू करो जो मुसलमानों को दुश्मन बताते हैं.....अब्दुल्ला ने कहा कि भारत मुसलमानों के दिल में बसता है।