रेल बजट को किसी ने चुनावी बजट तो किसी ने कहा रेल पटरी से उतरी

लोकसभा में पेश रेल  बजट पर प्रतिक्रिया में पूर्व रेल मंत्री और आरजेडी प्रमुख लालू यादव ने कहा है कि रेल पटरी से उतर गई है। उन्होंने यह भी कहा कि...

रेल बजट को किसी ने चुनावी बजट तो किसी ने कहा रेल पटरी से उतरी

railwayलोकसभा में पेश रेल  बजट पर प्रतिक्रिया में पूर्व रेल मंत्री और आरजेडी प्रमुख लालू यादव ने कहा है कि रेल पटरी से उतर गई है। उन्होंने यह भी कहा कि रेलवे में रोजगार भी खत्म हो गया है। वहीं पूर्व रेल मंत्री और लोकसभा में नेता विपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने इस रेल बजट को चुनावी बजट बताया है। खड़गे ने कहा कि यात्री किराया नहीं बढ़ाने के पीछे सबसे अहम कारण इस साल पांच राज्यों में होने वाले चुनाव हैं। उन्होंने कहा कि पिछले एक साल में रेल मंत्री यात्री किराया में दो बार बढ़ोतरी कर चुके हैं। साथ ही कहा कि इस बजट में कुछ भी नया नहीं है।
रेल बजट पर प्रतिक्रिया देते हुए तृणमूल कांग्रेस ने जीरो बजट बताया है। पार्टी के एक नेता ने कहा कि पिछले साल का रेल बजट जीरो बजट था इस साल का रेल बजट भी जीरो बजट है और दोनों को मिलाकर देखें तो यह एक 'बिग जीरो' है।
वहीं इस बजट पर प्रतिक्रिया में रविशंकर प्रसाद ने कहा कि यह विकासपरक बजट है। सबसे ज्यादा ध्यान रेल मंत्री ने बुनियादी ढांचे पर दिया है जो मौजूदा परिस्थिति में बेहद जरूरी था। पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि मुंबई के लिए एलिवेटिड कोरिडोर का प्रस्ताव आया है जो मुंबई के लोगों के लिए अच्छी खबर है। मुंबई के लोग इसकी मांग लंबे समय से कर रहे थे।


एक अन्य पूर्व रेलमंत्री दिनेश त्रिवेदी ने कहा कि इस रेल बजट में कुछ भी नया नहीं है और इस तरह का रेल बजट लाने से बेहतर था कि रेलमंत्री इसे पेश ही नहीं करते। वहीं सीपीएम के सांसद मोहम्मद सलीम ने इस बजट को दिशाहीन बजट बताया। सिर्फ आंकड़ों को पेश करके कई तरह के दावे किए गए हैं, जिनका कोई आधार नहीं है।