सीरिया- तमाम आशंकाओं के बीच संघर्ष विराम लागू

इस्लामिक स्टेट समूह और सीरिया में अलक़ायदा की शाखा नुसरा फ्रंट को संघर्ष विराम में शामिल ना करते हुए सीरिया में संघर्ष विराम लागू हो गया है।एक लंबे...

सीरिया- तमाम आशंकाओं के बीच संघर्ष विराम लागू

10-1441870917-syria-map-600

इस्लामिक स्टेट समूह और सीरिया में अलक़ायदा की शाखा नुसरा फ्रंट को संघर्ष विराम में शामिल ना करते हुए सीरिया में संघर्ष विराम लागू हो गया है।

एक लंबे अर्से से गृहयुद्ध की मार झेल रहे सीरिया में संघर्षविराम लागू कर दिया गया...ये समझौता अमेरिका और सीरिया की मध्यस्थता में किया गया।

इस संघर्षविराम को देश में जारी विनाशकारी युद्ध की भयावहता को कम करने के लिए सबसे बड़ा अंतरराष्ट्रीय कदम बताया जा रहा है ।

इस संघषर्विराम का मक़सद सीरिया सरकार के नुमाइंदो और विपक्ष को राजनीतिक बदलाव पर चर्चा करने के लिए जेनेवा में फिर से वार्ता की मेज पर बुलाना है....संयुक्त राष्ट्र के दूत स्टीफन डी मिस्तूरा ने इस बाबत एलान भी किया कि अगर संघर्षविराम का बड़े स्तर पर पालन होता है....तो शांति वार्ता सात मार्च से शुरू हो सकती है।

अगर ऐसा होता है, तो यह पहली बार होगा जब अंतरराष्ट्रीय वार्ताएं सीरिया में पांच सालों से चल रहे गृह युद्ध की स्थिति के बीच कुछ हद तक शांति ला पाएंगी.....हालांकि इसकी सफलता के लिए कई सशस्त्र धड़ों की ओर से संघर्ष विराम का पालन किए जाने की आवश्यकता होगी।

हालांकि सीरिया की आंतरिक स्थिति को देखते हुए सरकार और विपक्ष समेत 100 विद्रोही समूहों ने संघर्षविराम की सफलता पर संदेह जताया लेकिन साथ ही ये भी कहा है कि बावजूद इसके वो संघर्ष विराम का पालन करेंगे।

इस संघर्ष विराम के कमजोर होने का एक अहम पहलू ये भी है कि ये इस्लामिक स्टेट समूह और नुसरा फ्रंट के खिलाफ लड़ाई जारी रखने की अनुमति देता है, जिससे बड़े स्तर पर युद्ध फिर शुरू होने की प्रबल आशंका है।