जेएनयू विवादः रिहा हुए कन्हैया को आप सरकार का क्लीन चिट

दिल्ली हाईकोर्ट से छह महीने के लिए सशर्त अंतरिम जमानत मिलने के बाद कन्हैया को कल रात तिहाड़ जेल से रिहा कर दिया गया। उसे 12 फरवरी को गिरफ्तार किया गया...

जेएनयू विवादः रिहा हुए कन्हैया को आप सरकार का क्लीन चिट

kanhaiya kumarदिल्ली हाईकोर्ट से छह महीने के लिए सशर्त अंतरिम जमानत मिलने के बाद कन्हैया को कल रात तिहाड़ जेल से रिहा कर दिया गया। उसे 12 फरवरी को गिरफ्तार किया गया था। उधर दिल्ली की आप सरकार की जांच ने जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार को भी क्लीन चिट दे दी है। साथ ही केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा कि मैंने प्रधानमंत्री से कहा था कि छात्रों से पंगा मत लीजिए लेकिन उन्होंने मेरी बात नहीं मानी। इस बीच कन्हैया के जेल से छुटने के बाद उसने जेएनयू परिसर में छात्रों को संबोधित किया। कन्हैया के भाषण की कुछ नेता प्रशंसा कर रहे हैं जबकि कुछ इस पर प्रतिक्रिया देने लायक भी नहीं मानते। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कन्हैया के भाषण की जमकर तारीफ की। वहीं केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने कहा कि कन्हैया राजनीति में आने और पब्लिसिटी पाने के लिए यह सबकुछ कर रहा है। उधर कांग्रेस के नेता दिग्विजय सिंह ने दिल्ली पुलिस और केंद्रीय गृहमंत्री को धन्यवाद देते हुए कहा कि उन्होंने कन्हैया को छात्रों का बड़ा नेता स्थापित कर दिया है। दिग्विजय ने लोगों से भी कन्हैया के इस भाषण को सुनने  की अपील की है।

इस बीच कन्हैया के जेल से छुटने के बाद पुलिस को आशंका है कि कुछ छात्र संगठन कन्हैया के साथ जेएनयू, डीयू और जंतर मंतर अन्य जगहों पर भी सभा या रैली कर सकते हैं। 9 फरवरी को जेएनयू में अफजल की फांसी की बरसी पर आयोजित कार्यक्रम में देशविरोधी नारे लगे थे। जिसके आरोप कन्हैया और अन्य छात्रों को गिरफ्तार किया गया था।

अब कन्हैया की रिहाई पर जश्न के बीच उसके घर वालों को सुरक्षा का डर भी सता रहा है। उसकी मां का कहना है कि जब कोर्ट में बड़ी संख्या में पुलिस की मौजूदगी में कन्हैया पर हमला हो सकता है तो फिर बाहर उसकी सुरक्षा की क्या गारंटी है।