कश्मीरः 'भारतीय मोदी आर्मी' के पोस्टर के खिलाफ भाजपा ने की पुलिस को शिकायत

कश्मीर में  कुछ जगहों पर लगे बीएमए अर्थात् 'भारतीय मोदी आर्मी' के पोस्टर नजर आने से भारतीय जनता पार्टी में खलबली मच गई है। पार्टी ने पुलिस से इस...

कश्मीरः

bhartiya modi armyकश्मीर में  कुछ जगहों पर लगे बीएमए अर्थात् 'भारतीय मोदी आर्मी' के पोस्टर नजर आने से भारतीय जनता पार्टी में खलबली मच गई है। पार्टी ने पुलिस से इस पोस्टर्स के लगाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है। उधर बीएमए का कहना है कि यह मोदी के फैन्स का सात साल पुराना इंटरनेशनल नेटवर्क है और इससे करीब चौदह लाख कार्यकर्ता जुड़े हुए हैं, जो मोदी की सेक्युलर इमेज को प्रोजेक्ट कर रहे हैं।

मीडिया खबरों के अनुसार भारतीय जनता पार्टी ने कश्मीर के आईजी जावेद मुज्तबा गिलानी को पत्र लिखकर बीएमए के बारे में शिकायत की है। पार्टी की मांग है कि बीएमए की गतिविधियों को रोका जाना चाहिए।  उधर आईजी गिलानी ने शुक्रवार तक भाजपा की ओर से इस संबंध में किसी तरह का कोई पत्र मिलने से इनकार किया है। ज्ञात हो कि बीएमए ने श्रीनगर के राजबाग इलाके में सोमवार को अपने कार्यालय का उद्घाटन किया था।  वहीं भारतीय जनता पार्टी ने कहा कि हमारा बीएमए से कोई संबंध नहीं है। हमारी लोगों से अपील है कि उन लोगों के जाल में न फंसें। भाजपा ने आरोप लगाया है कि कुछ बदमाश लोग बीएमए नामक एक संगठन चला रहे हैं और उनकी गतिविधयों के बारे में पार्टी को कुछ पता भी नहीं है। जम्मू-कश्मीर प्रदेश भाजपा के जनरल सेक्रेटरी अशोक कौल ने कहा कि "हमने इस नाम से कोई पार्टी नहीं बनाई है, जो भी मोदी या पार्टी का नाम इस्तेमाल कर रहा है, उसका जनता के सामने जल्द ही खुलासा जाएगा।"

एक अंग्रेजी अखबार की खबर के अनुसार बीएमए के एक कोर मेंबर ने कहा, "हमारा संगठन पीएम नरेंद्र मोदी के फैन्स का है। हमारा मकसद मोदीजी के मिशन और विजन को उन लोगों तक पहुंचाना है, जो उन्हें और उनके काम को नहीं जानते।" इस बीच बीएमए के नेशनल प्रेसिडेंट राजीव आहूजा ने कहा कि हमारे संगठन को आप भाजपा की पॉलिटिकल सेल नहीं मान सकते। मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश समेत 19 राज्यों में हमारा संगठन है।" बता दें कि आहूजा के फेसबुक अकाउंट पर उनकी मोदी-शाह समेत कई भाजपा नेताओं के साथ फोटो है।
आहूजा के अनुसार भले ही प्रदेश भाजपा हमारे संगठन पर सवाल खड़े कर रही हो लेकिन भाजपा के कई नेताओं का हमें 'आशीर्वाद' मिल रहा है।