राज्यसभा चुनाव ....3 पूर्वोत्तर राज्यों में सियासी खेमेबाज़ी शुरु

राज्यसभा सीटों के लिए 21 मार्च को चुनाव होने की अधिसूचना शुक्रवार को जारी कर दी गई....इसके बाद से पूर्वोत्तर के तीन राज्य असम, त्रिपुरा और नागालैंड मे...

राज्यसभा चुनाव ....3 पूर्वोत्तर राज्यों में सियासी खेमेबाज़ी शुरु

indexराज्यसभा सीटों के लिए 21 मार्च को चुनाव होने की अधिसूचना शुक्रवार को जारी कर दी गई....इसके बाद से पूर्वोत्तर के तीन राज्य असम, त्रिपुरा और नागालैंड में सीटों को पाने के लिए कवायद शुरू कर दी गई है।

आपको बता दें कि इन तीनों राज्यों में राज्यसभा की चार सीटें रिक्त हो गई हैं जहां अलग-अलग राजनीतिक दलों की सरकार है।

वैसे राज्यसभा की कुल 13 सीटों की बात की जाए तो 6 राज्यों पंजाब, हिमाचल प्रदेश, केरल, असम, नागालैंड और त्रिपुरा में 21 मार्च को चुनाव होंगे....अधिकारियों के अनुसार इन चुनावों के लिए राष्ट्रपति और चुनाव आयोग ने अलग-अलग अधिसूचनाएं जारी की हैं।

बात सिलसिलेवार पूर्वोत्तर के तीन राज्यों की करें तो....

त्रिपुरा में राज्यसभा की केवल एक सीट खाली हो रही है,.....जिस पर अभी तक प्रदेश की सत्ताधारी मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के सदस्य झारन दास काबिज हैं....झारन दास का कार्यकाल दो अप्रैल को ख़त्म हो रहा है।

और इन दोनों की ही ये कोशिश है कि इनको दोबारा मौका मिले.....लेकिन पार्टी सूत्रों का कहना है कि राज्य के कुछ मंत्री एक सेवारत नौकरशाह के लिए हस्ताक्षर अभियान चलाए हुए हैं।

नागालैंड से इकलौती राज्यसभा सीट के लिए नागा लोकतांत्रिक गठबंधन में शामिल सत्ताधारी नागा पीपुल्स फ्रंट ने के.जी. केन्ये को चुना है....आपको बता दें कि ये सीट खेकीहो झिमोनी के निधन से खाली हुई है।
लेकिन, इस सीट के लिए नागा पीपुल्स फ्रंट की सहयोगी बीजेपी भी उम्मीदवार उतारना चाहती है.....बीजेपी के प्रदेश महासचिव एडुजु थेलुओ ने कहा कि उनकी पार्टी पूर्व प्रदेश अध्यक्ष एम.चुबा एओ, अवकाश प्राप्त आईएएस एच.के. खुलु और पूर्व मंत्री टी.ए. नगुल्ली में से किसी एक के नाम पर मुहर लगा सकती है।