2000 के नोट से बढ़ेगा देश में भ्रष्टाचार: येचुरी

सीपीएम नेता सीताराम येचुरी ने कहा कि नोटबंदी से भ्रष्टाचार पर रोक नहीं लगने वाली...

2000 के नोट से बढ़ेगा देश में भ्रष्टाचार: येचुरी

संसद के शीतकालीन सत्र के पहले दिन नोटबंदी पर चर्चा हुई। सत्र की शुरुआत में जहां सबसे पहले कांग्रेस की ओर आनंद शर्मा ने नोटबंदी के मुद्दे पर सरकार को घेरा, वहीं  सीताराम येचुरी ने राज्यसभा में कहा कि सरकार के इस कदम से कुछ भी हासिल नहीं हुआ। पता नहीं सरकार ने यह कदम क्यों उठाया।

येचुरी ने कहा कि 500/1000 रुपये के नोट बंद होने से अगर आप समझ रहे है कि भ्रष्टाचार रूक जाएगा? तो 2000 हजार रुपये के नोट से यह दोगुना हो जाएगा। इस तरह से कालाधन खत्म नहीं होगा, कालाधन बाजार में घूम रहा है, जमा कर रखा नहीं गया है। येचुरी ने कहा कि जिसे विमुद्रीकरण कहा जा रहा है वह हमारे कैश लेनदेन का 86% हिस्सा है, देश आज महज 14% कैश पर जिंदा है।

सीपीएम नेता ने कहा कि जौहरी धड़ल्ले से कालेधन को सफेद कर रहे हैं। वे तरह-तरह के मैसेज भेज रहे हैं कि वे रातभर खुले हैं और 30 दिसंबर तक 500-1000 रुपये के नोट लेंगे। इस बीच सोने-चांदी की कीमतें भी उछल गई हैं। उन्होंने सरकार से पूछा, आप इस तरह से कालाधन पकड़ रहे हैं या कालाधन रखने वालों को उसे सफेद करने का मौका दे रहे हैं।

येचुरी ने कहा, प्रधानमंत्री ने कालाधन रखने वाले मगरमच्छों को पकड़ने के लिए पूरे तालाब सुखा दिए हैं। लेकिन वे भूल गए कि मगरमच्छ तो जमीन पर भी रह लेता है, लेकिन छोटी मछलियां मर रही हैं। उनके पास ही बैठे जेडीयू नेता शरद यादव ने उनसे मगरमच्छ का नाम लेने को कहा तो उन्होंने कहा सभी लोग नाम जानते हैं।

साथ ही  येचुरी ने सदन को बताया कि दुनिया में इकलौता देश स्वीडन है जो कैशलेस हो चुका है। क्योंकि वहां हर जगह इंटरनेट की बेहतरीन सुविधा है। वहां सब कुछ मोबाइल और आईपैड पर है, लेकिन हमारे देश में इंटरनेट की क्या उपलब्धता और व्यापकता है वह हम सब जानते हैं।