माल्या समेत 63 लोगों के लोन माफी पर जेटली ने दी सफाई

अरुण जेटली माल्या का लोन माफ होने की खबरों पर सफाई देते हुए कहा, ‘राइट ऑफ' करने का मतलब लोन माफी से नहीं...

माल्या समेत 63 लोगों के लोन माफी पर जेटली ने दी सफाई

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने राज्यसभा में माल्या का लोन माफ होने की खबरों पर सफाई दी। वित्त मंत्री ने कहा, ‘राइट ऑफ' करने का मतलब सिर्फ इतना होता है कि बैंक द्वारा अकाउंटिंग बुक में लोन को नॉन परफॉर्मिंग एसेट्स मान लिया गया है।

जेटली ने कहा राइट ऑफ करने का मतलब लोन की माफी नहीं होता। उन्होंने कहा लोन की रिकवरी के प्रयास अब भी जारी रहेंगे।

बता दें, भारतीय स्टेट बैंक ने अपने करीब 7016 करोड़ रुपये का बकाया लोन डुबा हुआ मान लिया है। लोन लेने वालों में विजय माल्या भी शामिल हैं। विजय माल्या की राशि बाकी कुल राशि का करीब 80 प्रतिशत है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक माल्या पर विभिन्न बैंकों का नौ हजार करोड़ रुपये बकाया है। वो अभी देश से फरार हैं।

खबरों की मानें तो, कर्ज में डूबे लोगों में टॉप 20 में,  किंगफिशर एयरलाइंस (1201 करोड़), केएस ऑयल (596 करोड़), सूर्या फार्मास्यूटिकल्स (526 करोड़), जीईटी पावर (400 करोड़) और साई ईन्फो सिस्टम (376 करोड़) हैं।

मामले पर  बैंक का कहना है कि यह एक कॉमर्शियल निर्णय है और इसका मोदी सरकार के नोटबंदी से कोई संबंध नहीं है। वहीं एसबीआई मुख्य अरुंधति भट्टाचार्य ने मीडिया से मुखातिब होते हुए कहा कि इन राशि को डूबा हुआ नहीं माना जाएगा। इन्हें उन खातों में डाला गया है, जिस खाते को एकाउंट्स अंडर कलेक्शन कहा जाता है।