नोटबंदी: पैसा नहीं मिलने से बेसब्र जनता, बैंकों में की तोड़फोड़

इलाहाबाद में कई घंटों तक बैंकों के बाहर लाइन में लगे लोग, बाद में बैंक नहीं खुलने पर की तोड़फोड़ ।

नोटबंदी: पैसा नहीं मिलने से बेसब्र जनता, बैंकों में की तोड़फोड़

नोटबंदी से लोगों को हो रही परेशानियां कम होने का नाम ही नहीं ले रही हैं। पिछले दो दिन लोगों को थोड़ी-बहुत राहत मिली थी लेकिन बीते सोमवार को बैंकों में फिर से नगदी का संकट खड़ा हो गया। इलाहाबाद के कई प्रमुख बैंकों में भुगतान और नोट बदलने का काम पूरी तरह से ठप रहा। सुबह से ही लाइन में लगे लोग घंटों इंतजार के बाद बेसब्र हो गए। जिसके बाद लोगों ने बैंक शाखा के बाहर हंगामा करना शुरू कर दिया। इलाहाबाद बैंक की करेली शाखा में तोड़फोड़ भी हुई।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक बैंककर्मियों का कहना है कि आरबीआई से पैसा नहीं पहुंचने के कारण यह स्थिति आई। इसके आगे भी बने रहने के आसार हैं।

सुबह जैसे ही बैंक खुले लोगों की भीड़ टूट पड़ी। एक दिन की बंदी के बाद वैसे भी लोगों को उम्मीद थी कि अब हालात सामान्य हो जाएंगे। मगर ऐसा हुआ नहीं। कामकाज शुरू भी नहीं हुआ था कि कई शाखाओं में भुगतान और नोट बदलने से मना कर दिया गया। इसके बाद देना बैंक झूंसी, इलाहाबाद बैंक करेली, युनाइटेड बैंक अल्लापुर, यूनियन बैंक सिविल लाइंस में उपभोक्ताओं ने हंगामा शुरू कर दिया।

देना बैंक झूंसी और इलाहाबाद बैंक करेली में पैसा खत्म होने की जानकारी ग्राहकों को मिली तो बैंककर्मियों से कहासुनी होने लगी। भुगतान की बाबत संतोषजनक जवाब न मिलने पर लोगों ने तोड़फोड़ शुरू कर दी। घंटों लाइन में लगे लोग जानना चाह रहे थे कि पैसे की कमी क्यों है और इसे कब तक दूर किया जा सकेगा।

एसबीआई मुख्य शाखा (त्रिवेणी) के सहायक प्रबंधक एके गुप्ता ने बताया कि सोमवार को बैंकों में मात्र 100 करोड़ जमा हुए, जबकि 30 करोड़ का भुगतान हुआ। नोटों की बदली नहीं के बराबर हुई।

नोटबंदी के बाद सरकार ने शादी वाले परिवार के लिए 2.50 लाख देने की घोषणा की थी। सरकार की यह घोषणा कागजों में ही बंद रह गई। आरबीआई की ओर से बैंकों के पास कोई दिशा निर्देश नहीं भेजे जाने से अब बैंकों ने शादी वालों को किसी प्रकार का धन देने से मना कर दिया। एसबीआई त्रिवेणी शाखा में सरकार की घोषणा के बाद दो दिन तक 2.50 लाख भुगतान किया गया परंतु एसबीआई मुख्यालय को अभी तक आरबीआई से कोई दिशा निर्देश नहीं पहुंचा। जिसके कारण अब भुगतान रोक दिया गया। पीएनबी में भी अधिकारियों ने बताया कि विवाह के लिए कंप्यूटर में मेन्यू तो आ गया है परंतु इसे खोलना संभव नहीं हो सका।