बैंकों ने घटाईं जमा पर ब्याज दरें

नोटबंदी के बाद लोगों ने बैंकों जमा करवाई बड़ी रकम, बैंको ने जमा पर ब्याज दरें घटाईं।

बैंकों ने घटाईं जमा पर ब्याज दरें

देश में नोटबंदी के बाद बैंकोंं में भारी मात्रा में नकदी जमा की गई है। इस बीच छोटी अवधि के लिए बैंक में एफडी कराने वाले ग्राहकों के लिए बुरी खबर है। देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) ने जमा पर ब्याज दरों को 15 बेसिस अंक घटा दिया है। यह दर एक से तीन साल तक की जमाओं के लिए घटाई गई हैं। गौरतलब है कि नोटबंदी के बाद से स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में बीते 7 दिनों में 1,14,139 करोड़ रुपए जमा हुए हैं।

खबरों के मुताबिक निजी क्षेत्र के बैंक कोटक महिंद्रा बैंक ने एक साल के फिक्स्ड डिपॉजिट पर 25 बेसिस प्वाइंट की कटौती की है। वहीं दो और तीन साल के लिए जमा की दरें 50 बेसिस प्वाइंट तक घटाई गईं हैं। कटौती के बाद कोटक महिंद्रा बैंक की ब्याज दर एक साल की अवधि के लिए 7% हो गई है, जो समानावधि के लिए स्टेट बैंक की ओर से 7.05% से कम है। बैंक की ओर से घटाई गई ब्याज दरें 21 नवंबर से लागू होंगी।

देश के बड़े निजी क्षेत्र के बैंक एचडीएफसी ने भी एक साल की अवधि वाले जमा पर ब्याज दरें 25 बेसिस प्वाइंट घटा दी हैं। इस कटौती के बाद बैंक की 1 साल की एफडी पर ब्याज दर 7 फीसदी हो जाएगी। वहीं बैंक की ओर से दो और तीन साल की अवधि वाली एफडी पर भी बैंक ने 25 बेसिस प्वाइंट की कमी की है।

भारी नकदी आने के बाद बैंकों पर इस जमा पर ब्याज देने का दवाब है जिसकी वजह से बैंक अब जमा ब्याज दरें घटा रहे हैं। साथ ही भारतीय रिजर्व बैंक की ओर से जनवरी 2015 से अब तक नीतिगत दरों में 175 बेसिस प्वाइंट की कमी की गई है। इस कटौती को ग्राहकों तक पहुंचाने का दवाब बैंकों पर है।