बिहार: नीतीश कुमार ने कहा बेनामी संपत्ति पर प्रहार करने की जरुरत

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने नोटबंदी का समर्थन करते हुए कहा कि अब बेनामी संपत्ति पर प्रहार करने की जरूरत है।

बिहार: नीतीश कुमार ने कहा बेनामी संपत्ति पर प्रहार करने की जरुरत

बिहार विधानसभा स्थित अपने कक्ष में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने नोटबंदी का समर्थन करते हुए इसको लेकर महागठबंधन में किसी प्रकार की दरार से खारिज किया और नीतीश ने कहा कि नोटबंदी का यह कदम कोई साधारण कदम नहीं, बहुत ‘साहसिक कदम’ है पर इसे लागू करने के लिए तैयारी और की गयी होती तो किसी को कठिनाई नहीं होती।

नीतीश ने यह फिर दोहराया कि केवल नोटबंदी से नहीं बल्कि बेनामी संपत्ति पर जबतक प्रहार नहीं किया जाएगा कालेधन के खिलाफ की गई कार्रवाई का उतना परिणाम नहीं आएगा जितना आवश्यक है।

नोटबंदी को लेकर बिहार की महागठबंधन सरकार में शामिल दलों जदयू, राजद और कांग्रेस में अलग-अलग राय होने के कारण दरार पैदा के बारे में नीतीश ने इसे खारिज करते हुए कहा कि इसको लेकर कोई भ्रांति नहीं यह महागठबंधन इस प्रदेश के मुद्दों लेकर है, उसपर कोई मतभेद नहीं लेकिन कोई राष्ट्रीय मुद्दा आने पर अलग राय रखने क्या मतभेद की संज्ञा की जाएगी।

नीतीश ने कहा कि बिहार में जदयू, राजद और कांग्रेस का जो महागठबंधन बना। सरकार चल रही है। बिलकुल कामन एजेंडा पर काम चल रहा है। आपसी समझदारी है। किसी प्रकार की कोई भ्रांति नहीं है।

नीतीश ने महागठबंधन में मतभेद और दरार की अटकलों को लोगों का ख्याली पुलाव की संज्ञा देते हुए कहा कि इसका मतलब यह कतई नहीं होता कि बिहार में तीन दलों का गठबंधन है तो दुनिया के सारे मुद्दे पर लोग एक राय होंगे। यह असंभव है।