भाजपा की सहयाेगी सांसद के दामाद के पास मिले “लापता” 3.5 करोड़ के पुराने नोट, गिरफ्तार

नगालैंड की शहर दीमापुर के हवाई अड्डे से बीते मगंलवार (22 नवंबर) को लापता हुए साढ़े तीन करोड़ रुपये बुधवार (23 नवंबर) को बरामद किया गया है। बताया जा रहा है ये पूरी राशि 500 और 1000 के नोटों के रूप में थी।

भाजपा की सहयाेगी सांसद के दामाद के पास मिले “लापता” 3.5 करोड़ के पुराने नोट, गिरफ्तार

नगालैंड की शहर दीमापुर के हवाई अड्डे से बीते मगंलवार (22 नवंबर) को लापता हुए साढ़े तीन करोड़ रुपये बुधवार (23 नवंबर) को बरामद किया गया है। बताया जा रहा है ये पूरी राशि 500 और 1000 के नोटों के रूप में थी। जिसे सीआईएसएफ के सुरक्षाकर्मियों ने तब जब्त किया था जब इन्हें एक चार्टेड फ्लाइट से लाया जा रहा था। बाद में  मीडिया में आई खबर में ये पूरी राशि हवाईअड्डे से गायब हो गई। नगालैंड पुलिस के प्रमुख एलएल दोउंगल ने मीडिया काे बताया कि, “सीआईएसएफ द्वारा जब्त किए गए पैसे आयकर विभाग के अधिकारियों को सौंप दिया गया है।  नगा कारोबारी अनातो झिमोमी ने आयकर छूट से जुड़े प्रमाणपत्र दिखाए जिसके बाद ये पैसे आयकर विभाग ने उन्हें वापस कर दिए।” झिमोमी नगालैंड पीपल्स फ्रंट के नेता और राज्य के एकमात्र सांसद नेफियू रियो के दामाद हैं। रियो केंद्र की बीजेपीनीत एनडीए सरकार के समर्थक हैं। नगालैंड के पुलिस ने झिमोमी को  गिरफ्तार कर लिया है।

दिल्ली स्थित आयकर विभाग और खुफिया अधिकारियों को अंदेशा था कि बंद किए गए नोटों के रूप में बरामद साढ़े तीन करोड़ रुपये किसी बड़े मनी लॉन्डरिंग रैकेट का हिस्सा हो सकते हैं।  इनका सूत्रधार नाॅर्थईस्ट के आदिवासियों को मिलने वाले टैक्स छूट और छोटे एयरपोर्ट पर तुलनात्मक रूप से कम सुरक्षा व्यवस्था होने का लाभ उठाना रहा है। झिमोमी के ससुर नेफियू नगालैंड के तीन बार मुख्यमंत्री रह चुके हैं। झिमोमी के पिता खेकिहो झिमोमी भी नगा पीपल्स फ्रंट पार्टी के राज्य सभा सांसद रह चुके हैं।

आयकर विभाग की छानबीन में पता चला है कि दिल्ली-एनसीआर के कुछ कारोबारियों ने झिमोमी को ये पैसे दिए थे। इन कारोबारियों में गुड़गांव स्थित एक प्रिंटिंग और पैकेजिंग कंपनी के मालिक भी शामिल हैं।  झामोमी ने हिसार के छोटे एयरफील्ड की साधारण सुरक्षा व्यवस्था का फायदा उठाते हुए एक चार्टेड विमान से बंद किए गए 500 और 1000 के नोटों में कम से कम 11 करोड़ रुपये दीमापुर पहुंचाए। इन पैसों को झिमोमी ने अपने बैंक खातों में जमा कराया। माना जा रहा है कि झिमोमी सभी कारोबारियों को आरटीजीएस के माध्यम से उनके पैसे लौटा रहा था। आयकर विभाग को पता चला है कि झिमोमी ने कथित तौर पर अपने दिमापुर स्थित एक्सिस बैंक के खाते में पहले भी सात करोड़ रुपये जमा कराए थे।

आयकर विभाग के सूत्रों ने  मीडिया  को बताया कि झिमोमी ने “कबूल” कर लिया है कि वो उसी विमान से 12 नवंबर, 14 नवंबर और 14 नवंबर को भी हिसार से दीमापुर बंद नोटों में बड़ी धनराशि ले जा चुका है। आयकर अधिकारियों ने गुड़गांव स्थित प्रिंटिंग और पैकेजिंग कारोबारी अनिल सूद से भी पूछताछ की है जिनके अकाउंट में झिमोमी ने आरटीजीएस से पैसे जमा किए थे। आयकर विभाग चार्टेड विमान उपलब्ध कराने वाली कंपनी की भी जांच कर रही है क्योंकि झिमोमी ने पूछताछ में दावा किया कि पिछली बार जो धनराशि वो लेकर आया थो विमान कंपनी का था। जांच अधिकारियों ने हिसार फ्लाइंग क्लब पर सुरक्षा व्यवस्था को भी लेकर भी खतरे की घंटी बजा दी है।