नोटबंदी से पहले करोड़ों की जमीन खरीदने पर घिरी बीजेपी

जेडी(यू) और आरजेडी ने शुक्रवार को बीजेपी द्वारा बिहार के अलग-अलग जिलों में खरीदी गई करोड़ों रुपये की संपत्ति के मामले में जांच की मांग की है...

नोटबंदी से पहले करोड़ों की जमीन खरीदने पर घिरी बीजेपी

बीते शुक्रवार को जेडी(यू) और आरजेडी बीजेपी द्वारा बिहार के विभिन्न जिलों में खरीदी गई करोड़ों रुपये की संपत्ति के मामले में जांच की मांग की है। उनका का कहना है कि मोदी सरकार द्वारा 500 और 1000 के पुराने नोटों पर बैन लगाने से कुछ हफ्तों पहले ही ये जमीनें खरीदी गईं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जमीनों को बीजेपी विधायक दिलीप कुमार जायसवाल, संजीव चौरसिया और लाल बाबू प्रसाद के नाम पर खरीदे गए हैं। चौरसिया ने यह बात स्वीकार की पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व ने उन्हें पार्टी ऑफिसों के निर्माण के लिए जमीनें खरीदने के लिए कहा। वहीं सुशील कुमार मोदी का कहना है कि, सभी डील पूरे पारदर्शी तरीकों से हुईं।

आपको बता दें, इस मामले में जनता दल यूनाइटेड नें न्यायिक जांच के साथ-साथ  पूछताछ की भी  मांग की है।  पार्टी ने संदेह जताया है कि मामला ब्लैक मनी से जुड़ा हुआ है। खबरों की माने तो पार्टी प्रवक्ता संजय सिंह और नीरज कुमार ने बताया कि जमीन की रजिस्ट्री से जुड़े दस्तावेज देखने के बाद ऐसा लगता है कि पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व की तरफ से किसी योजना के तहत ये जमीनें खरीदने को कहा गया था।