सभी राजनैतिक पार्टियों को RTI के दायरे में लाओ: केजरीवाल

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने नोटबंदी के फैसले को लेकर पीएम मोदी पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि अगर सही मायनों में काले धन के संकट से निपटना है, तो सभी राजनैतिक दलों को सूचना के अधिकार (RTI) की दायरे में लाना होगा।

सभी राजनैतिक पार्टियों को RTI के दायरे में लाओ: केजरीवाल

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने नोटबंदी के फैसले को लेकर पीएम मोदी पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि अगर सही मायनों में काले धन के संकट से निपटना है, तो सभी राजनैतिक दलों को सूचना के अधिकार (RTI) की दायरे में लाना होगा। एक कानून बनाकर यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि राजनैतिक दलों को मिलने वाला चंदा नकद में ना दिया जाए।

केजरीवाल ने कहा कि नोटबंदी का फैसला के पीछे 4 मकसद थे- भ्रष्टाचार, नकली नोट, आतंकवाद और काला धन। इस फैसले के बाद इनमें से किसी का भी हल नहीं निकाल है बल्कि भ्रष्टाचार 10 फीसद तक बढ़ गया है। अब 2,000 के नए नोटों में रिश्वत दी जा रही है। काले धन का उत्पादन हो रहा है। यहां तक कि 2,000 के नए नोटों को ब्लैक में बेचा भी जा रहा है।

उन्होंने कहा कि नकली नोट बनाने पर भी कोई नियंत्रण नहीं है। रिजर्व बैंक से अधिक तेज गति से तो नकली नोट बनाने के कारखाने काम कर रहे हैं। जहां लोगों को नए नोट एटीएम से भी नही मिल पा रहे है। वहीं आतंकवादियों के पास से नए नोट बरामद हो रहे हैं। यह नोटबंदी का फैसला केंद्र सरकार की बहुत बड़ी असफलता है।

वहीं हाल ही के दिनों में फिक्स्ड डिपॉज़िट (FD) की ब्जाय दरों में जो बदलाव किया गया है, उसे वापस लेने की मांग करते हुए केजरीवाल ने कहा कि ब्याज दरों को घटा दिया गया है। इसका सीधा प्रभाव मध्यम वर्ग और वरिष्ठ नागरिकों पर पड़ेगा। पीएम छुप क्यों रहे हैं, वह संसद में क्यों नहीं आ रहे हैं। वह जानते हैं कि अलग-अलग औधोगिक घरानों के साथ संबंधों को लेकर उनसे सवाल पूछे जाएंगे।

केजरीवाल ने आगे कहा कि नोटबंदी  देश का अबतक का सबसे बड़ा घोटाला है जिस भी शख्स ने यह योजना बनाई, उस पर धोखाधड़ी का केस दर्ज होना चाहिए। उन्होंने कहा कि एक तरफ बीजेपी ने अपना सारा काला धन बैंकों और रियल एस्टेट में लगा दिया है, वहीं दूसरी बीजेपी देश के लोगों को भ्रष्टाचार पर उपदेश दे रही है।