नोटबंदी मामले में जेपीसी की जांच हाे - मायावती

केंद्र सरकार का यह फैसला राजनीतिक फायदा उठाना के लिए है, न की कालाधन पर अंकुश लगाने के लिए। मायावती ने पीएम के नोटबंदी के फैसले को बड़ा घोटाला करार दिया

नोटबंदी मामले में जेपीसी की जांच हाे - मायावती

संसद का शीतकालीन सत्र शुरू हाेते ही विपक्ष ने चाराें तरफ से केंद्र सरकार पर नोटबंदी को लेकर हमला बोला है। इसी मुद्दे पर बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने भी केंद्र सरकार पर हमला करते हुए कहा, 'इस मामले काे लेकर हमारी पार्टी ने जेपीसी जांच की मांग की है।' मायावती ने मीडिया से बातचीत में कहा कि सरकार ने नाेटबंदी करने का निर्णय जल्दबाजी में लिया। सरकार ने यह फैसला पांच राज्यों में चुनाव के मद्देनज़र लिया है।

मायावती ने आगे कहा कि केंद्र सरकार का यह फैसला राजनीतिक फायदा उठाना के लिए है, न की कालाधन पर अंकुश लगाने के लिए। मायावती ने पीएम के नोटबंदी के फैसले को बड़ा घोटाला करार दिया। साथ ही मायावती ने कहा कि इसकी उच्चस्तरीय जांच हाेनी चाहिए। यह घाेटाला ही तो है तभी तो बीजेपी के लाेगोंं ने नाेटबंदी की घोषणा होने से पहले ही बैंकाें में पैसा जमा करवा दिया।

बीएसपी सुप्रीमो ने केंद्र सरकार के इस फैसले को जुमला करार दिया और कहा कि सरकार सिर्फ जुमला कसती है आैर कुछ नहीं। अगर यह जुमला नहीं हाेता ताे आज अंबानी, अड़ानी जैसे लाेग भी बैंकाें की कतार में लग रहें हाेते। माेदी सरकार ने पुंजीपतियों की रकम को ठिकाने लगाया है। मोदी के इस फैसले से सिर्फ और सिर्फ आम जनता परेशान है। लोगों की जिंदगी भर की कमाई को मोदी ने एक पल में रद्दी बना दिया।

आपकाे बता दें कि संसद के शीतकालीन सत्र का आज पहला दिन था। मायावती ने नोटबंदी के मुद्दे पर साफ कहा कि उनकी पार्टी इस मामले में जेपीसी जांच की मांग करती है। साथ ही उन्होंने दावा किया कि उनकी पार्टी ने एक भी चंदा विदेश से नहीं लिया है और मायावती ने अपनी सफाई देते हुए कहा कि उन्होंने किसी बड़े उद्योगपति से किसी प्रकार की कोई रकम नहीं ली है।