दुश्मनों को सबक सिखाने के लिए सरकार की मंज़ूरी का है इंतजार: मनोहर पर्रीकर

रक्षा मंत्री मनोहर पर्रीकर का कहना है कि सेना देश के दुश्मनों को सबक सिखाना चाहती है। इसके लिए वह सरकार की इजाज़त का इंतजार कर रहे हैं...

दुश्मनों को सबक सिखाने के लिए सरकार की मंज़ूरी का है इंतजार: मनोहर पर्रीकर

रक्षा मंत्री मनोहर पर्रीकर ने कहा है कि भारतीय सेना को देश के दुश्मनों को सबक सिखाने के लिए बस सरकार की मंजूरी का इंतजार है। बीजेपी की एक मीटिंग के दौरान रक्षा मंत्री ने कहा कि देश की सेना का मानोबल काफी बढ़ा हुआ है। सेना देश के दुश्मनों को सबक सिखाना चाहती है। इसके लिए वह बस सरकार की इजाज़त का इंतजार कर रहे हैं। हम सेना को 2-3 बार मंजूरी दे भी चुके हैं।” भारतीय रक्षामंत्री का यह बयान पाकिस्तान सेना प्रमुख जनरल राहील शरीफ के उस बयान के एक दिन बाद आया जिसमें उन्होंने कहा था कि पाकिस्तान अपने विरोधियों के साथ पारंपरिक युद्ध लड़ने के लिए भी ‘समान रूप से तैयार’ है।

वहीं रक्षा मंत्री मनोहर पर्रीकर ने कहा कि हम अपने दुश्मनों को बताना चाहते हैं कि अगर वह हमें आखें दिखाने की कोशिश करेगा तो हमें उनसे भी बड़ी आंखे दिखाना आता है।” उन्होंने कहा कि देश की सीमा पूरी तरह सुरक्षित है और कोई भी भारत पर हमला करने के बारे में नहीं सोच सकता। उन्होंने कहा कि हम देश की सुरक्षा को लेकर पूरी तरह प्रतिबद्ध हैं। सीमा पर ना सिर्फ सुरक्षा चौकस है, बल्कि सैनिकों को पर्याप्त युद्धसामाग्री भी दी हुई है।”

रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने शनिवार (19 नवंबर) को एक कार्यक्रम में कहा था कि उन्होंने सुरक्षा बलों को कह रखा है कि AK-47 घूमते दिखने वाले किसी भी शख्स को वह गोली मार सकते हैं। पर्रिकर ने कहा था, ‘मैंने सुरक्षा बलों के सभी जवानों को निर्देश दे रखा है कि वह एके-47 रखने वाले किसी भी शख्स को शूट कर सकते हैं। क्योंकि साफ है उसके इरादे अच्छे नहीं होंगे।’ बता दें कि पाकिस्तान की ओर से किए गए सीजफायर उल्लंघन में 4 भारतीय जवान घायल हो गए थे। घायलों में से 40 वर्षीय बीएसएफ हेड कॉन्स्टेबल राय सिंह ने दम तोड़ दिया। इसके अलावा 3 घायल जवानों की हालत गंभीर है।