नोटबंदी कालेधन के खिलाफ 'साहसिक कदम' : बिल गेट्स

माईक्रोसॉफ्ट कॉर्परेशन के मालिक बिल गेट्स ने मोदी सरकार की विमुद्रीकरण के फैसले की तारीफ करते हुए इसे अर्थव्यवस्था को पारदर्शी बनाने के लिए एक अहम फैसला बताया...

नोटबंदी कालेधन के खिलाफ

भारत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बड़े नोटों के बैन के फैसले की तारीफ करते हुए सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र की दिग्गज अमेरिकी कंपनी माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक बिल गेट्स ने कहा है कि यह एक 'साहसिक कदम' है और इससे देश में कालेधन की अर्थव्यवस्था घटेगी।

गेट्स ने कहा, 'उंचे मूल्य के नोटों को चलन से बाहर करने और उनके बदले नए अतिरिक्त सुरक्षा उपायों वाले नोटों को लाने का कदम भारत में कालेधन की अर्थव्यवस्था को कम करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।'

बिल गेट्स ने कहा कि भारत को भविष्य की चुनौतियों के लिए तैयार रहना होगा और टेक्नॉलजी निर्माण के क्षेत्र में ऐसा सिस्टम बनाना होगा जिससे कि वह ग्लोबल चुनौतियों का सामना कर सके। उन्होंने आगे कहा कि पूरी दुनिया की नजर भारत पर है कि वह कैसे इनोवेशन के क्षेत्र में उसके सामने आने वाली चुनौतियों का सामना करता है। गेट्स ने यह बातें नई दिल्ली में नीति आयोग द्वारा आयोजित ट्रांसफॉर्मिंग इंडिया के लेक्टर की दूसरी सीरीज कहीं और साथ ही भारत सरकार की स्टार्ट अप इंडिया और स्वच्छ भारत अभियान की भी सराहना की।

स्वास्थ्य के संदर्भ में गेट्स ने कहा कि 'अगर भारत में स्वास्थ्य संबंधी किसी एक समस्या का समाधान करने की कोई जादू की छड़ी मेरे पास हो, तो मैं उससे कुपोषण के संकट को दूर करना चाहूंगा।' भारत में कुछ ऐसे राज्य एवं क्षेत्र हैं, जहां कुपोषण कोई अनोखी नहीं बल्कि एक सामान्य बात है। उन्होंने बच्चों में कुपोषण के चलते भारत की अर्थव्यवस्था को 2030 तक सालाना 46 अरब डॉलर का नुकसान होने का अनुमान है. देश में पांच वर्ष से कम के 4.4 करोड़ बच्चों का शारीरिक विकास कम है.