देश का हर शख्स होगा डिजिटल इकॉनमी का हिस्सा: अरुण जेटली

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा, जल्दी ही देश के हर शख्स डिजिटल इकॉनमी का हिस्सा होगा...

देश का हर शख्स होगा डिजिटल इकॉनमी का हिस्सा: अरुण जेटली





वित्त मंत्री अरुण जेटली ने एक इंटरव्यू में कहा कि  मोदी सरकार देश को ट्रांसफॉर्म करने का प्रयास कर रही है और जल्दी ही देश के हर शख्स डिजिटल इकॉनमी का हिस्सा होगा। जेटली ने कहा कि 2000 में हम कहते थे कि देश के हर शख्स के पास मोबाइल होगा तो लोग विश्वास नहीं करते थे।


जल्दी ही देश के ज्यादा से ज्यादा लोग डिजिटल और कैशलेस इकॉनमी का हिस्सा होंगे। नोटबंदी के बाद से देश में कैश की अव्यवस्था को लेकर जेटली ने कहा, '500 और 1000 रुपये के नोटों को हटाए जाने के बाद से रीमॉनेटाइजेशन प्रॉसेस सही ढंग से चल रहा है। रिजर्व बैंक का अपना शेड्यूल है और वह समयबद्ध तरीके से बाजार में नई करंसी उतार रहा है।


उन्होंने कहा,  8 नवंबर को फैसले के बाद से अब 15 से 16 दिन बाद लाइनें कम हो रही हैं। पेट्रोल पंप और बिग बाजार जैसे कई संस्थान इससे जुड़े हैं और करंसी लगातार मार्केट में पहुंची है। बड़े पैमाने पर नोट छपे हैं और छापे जा रहे हैं। इसके अलावा 500 के नोटों की भी अच्छी संख्या है।'




वहीं ग्रामीण इलाकों में मनी सर्कुलेशन कम होने के सवाल पर जेटली ने कहा कि ऐसा नहीं है और लोग बैंक शाखाओं और डाक घरों में जाकर कैश हासिल कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि देश भर में 1.25 लाख बैंक शाखाएं हैं और 2 लाख से ज्यादा एटीएम हैं। जेटली ने कहा कि लोगों को आरबीआई के ऑफिस में ही लाइन लगाने की जरूरत नहीं है, वे बैंकों, डाकघरों और बैंकिंग कॉरेस्पॉन्डेंट्स के जरिए भी इस काम को अंजाम दे सकते हैं।