हर मुस्लमान को होना चाहिए आतंकवादी: जाकिर नाइक

ओसामा बिन लादेन का समर्थन करने वाले जाकिर नाइक का कहना है कि हर मुस्लमान को आतंकवादी होना चाहिए...

हर मुस्लमान को होना चाहिए आतंकवादी: जाकिर नाइक

सरकार ने विवादास्पद इस्लामी प्रचारक जाकिर नाइक के एनजीओ इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन (आईआरएफ) पर लगाए गए प्रतिबंध को सही ठहराते हुए कहा है कि जाकिर नाइक ओसामा बिन लादेन का गुणगान करता था और कहता था कि पहर मुस्लिम को आतंकवादी होना चाहिए। वह यह भी दावा करता था कि अगर इस्लाम हकीकत में चाहता तो 80 प्रतिशत भारतीय हिंदू नहीं रहते।

वहीं केंद्रीय कैबिनेट द्वारा इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन (आईआरएफ) को गैर कानूनी गतिविधि निरोधक कानून के तहत प्रतिबंधित करने के फैसले के दो दिन बाद गृह मंत्रालय ने जारी एक राजपत्र अधिसूचना में कहा कि आईआरएफ और उसके सदस्यों विशेष तौर पर संस्थापक और उसका अध्यक्ष जाकिर नाइक अपने अनुयायियों को अलग अलग धार्मिक समुदायों के बीच धर्म के आधार पर वैमनस्यता या शत्रुता की भावना बढ़ाने की कोशिश करने के लिए प्रोत्साहित करते थे और उन्हें सहायता देते थे।

बता दें कि अधिसूचना में कहा गया है कि केंद्र सरकार को जानकारी मिली थी कि आईआरएफ अध्यक्ष जाकिर नाइक के बयान और भाषण आपत्तिजनक हैं और उनकी प्रकृति विध्वंसकारी हैं क्योंकि वह ओसामा बिन लादेन जैसे आतंकवादियों का गुणगान करता था और कहता था कि प्रत्येक मुस्लिम को आतंकवादी होना चाहिए, उसका कहना था कि अगर हम चाहते तो तलवार से उनका धर्मांतरण करा देते। वह आत्मघाती विस्फोटों को जायज ठहराता था, हिंदू देवी देवताओं के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणियां करता था। वह दावा करता था कि स्वर्ण मंदिर मक्का और मदीना जितना पवित्र नहीं हो सकता। वह अन्य धर्मों के खिलाफ अन्य अपमानजनक बयान देता था।

गौरतलब है कि गृह मंत्रालय ने कहा कि भाषणों और बयानों के जरिये नाइक अलग अलग धार्मिक समूहों के बीच शत्रुता और नफरत को बढ़ावा देता रहा है और भारत और विदेश के मुस्लिम युवाओं और आतंकवादियों को आतंकवादी कृत्यों को अंजाम देने के लिए प्रोत्साहित करता था।