राहत: केन्द्रीय वित्त मंत्रालय का निर्देश- बैंक खाता नहीं है, फिर भी मिलेगा डेबिट कार्ड

केन्द्रीय वित्त मंत्रालय की ओर से सभी बैंकों को यह निर्देश दिया गया है अगर आपके पास बैंक खाता नहीं है तब भी बैंक आपको डेबिट कार्ड देगा

राहत: केन्द्रीय वित्त मंत्रालय का निर्देश- बैंक खाता नहीं है, फिर भी मिलेगा डेबिट कार्ड

500 और 1000 रुपये काे अवैध करने के बाद भारत सरकार प्लास्टिक मनी को बढ़ावा देने के सभी विकल्पों पर काम कर रही है। इसी के तहत अगर आपके पास बैंक खाता नहीं है तब भी बैंक आपको डेबिट कार्ड देगा। सरकार के निर्देश पर जल्द ही सभी बैंक यह सुविधा उपलब्ध कराएंगे। इसे प्री रिचार्ज डेबिट कार्ड सेवा का नाम दिया गया है। इस कार्ड में एक तय राशि तक ही पैसा जमा होगा। लोग इसका इस्तेमाल प्लास्टिक मनी के तौर पर कर सकेंगे। बताया जा रहा है कि यह भारत सरकार के द्वारा सकरात्मक फैसला लिया गया है। नाेटबंदी के बाद लाेगाे काे हाे रही परेशानी काे मद्देनजर देखते हुए यह फैसला लिया गया है।

वहीं पर केन्द्रीय वित्त मंत्रालय की ओर से सभी बैंकों को यह निर्देश दिया गया है कि जिन लोगों के पास बैंक खाता नहीं है लेकिन उनके पास आधार कार्ड या कोई भी वैध पहचान पत्र है तो उन्हें प्री रिचार्ज डेबिट कार्ड मुहैया कराया जाय। मंत्रालय की तरफ से यह भी कहा गया है कि अगर किसी व्यक्ति के परिवार में किसी सख्स के पास बैंक खाता है तो उससे इस कार्ड को लिंक कर दिया जाय। इसके लिए कार्ड प्राप्त करने वाले व्यक्ति को एक आवेदन देना होगा। इसमें एक सीमा तक राशि तय कर दी जाएगी।

एक अधिकारी ने मीडिया काे बताया कि, इस विकल्प में एेसी बहुत सारी उपलब्धियां है जिसे लाेगाे काे राहत मिलेगी, अगर किसी के पिता या माता या किसी अन्य पारिवारिक सदस्य के नाम से कोई खाता है तो उसका कार्ड उस खाते से लिंक कर दिया जाएगा। अगर इस तरह का कोई खाता नहीं है तो उसे आधार कार्ड या कोई भी वैध पहचान पत्र के साथ आवेदन करना होगा। जैसा कि बैंक क्रेडिट कार्ड देते समय प्रक्रिया का पालन करते हैं।

मंत्रालय के अधिकारी के मुताबिक इस योजना के तहत एक खाते पर अधिकतम पांच कार्ड ही जारी किए जा सकेंगे। इसके साथ ही नाबालिगों को भी प्री रिचार्ज डेबिट कार्ड देने की मंजूरी दी गई है। हालांकि, कार्ड के रिचार्ज की अधिकतम या न्यूनतम सीमा अबी तय नहीं की गई है लेकिन इसे बाद में तय किया जाएगा।