विपक्ष ने मोदी से मांगा रैली का हिसाब

कांग्रेस नेता अखिलेश प्रताप सिंह का बयान, कहा- मोदी बताएं कि रैलियों के लिए इतना पैसा कहा से आया, किसने दिया रैली के लिए पैसा ।

विपक्ष ने मोदी से मांगा रैली का हिसाब

कुशीनगर में जहां एक ओर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी के खिलाफ एकजुट विपक्ष के भारत बंद पर निशाना साधा, तो वहीं विपक्ष ने पीएम मोदी से उनकी रैली में लगे सफेद धन का हिसाब मांग है। प्रदेश कांग्रेस के नेताओं ने मांग की है कि अब बीजेपी और प्रधानमंत्री ये बताएं कि उनकी कुशीनगर की रैली में कितना पैसा लगा और वो पैसा कहां से आया ?

कांग्रेस के प्रवक्ता और प्रदेश के नेता अखिलेश प्रताप सिंह ने  पीएम मोदी से पूछा है कि मोदी ने काले धन पर लगाम लगाने की बात की है, तो पीएम ये भी बताएं कि उनकी रैलियों के पैसे जो कि सफेद धन है उसका स्रोत क्या है। क्या तमाम लोगों को पीएम की रैली के लिए चेक से पेमेंट किए गए हैं। रैली के इंतजाम में जो खर्च हुए हैं, वो पैसे किसने दिए और कुल खर्च कितना हुआ है, मोदी को जनता को इसका हिसाब देना चाहिए।

उल्लेखनीय है कि, रविवार को पीएम मोदी ने कुशीनगर की अपनी परिवर्तन रैली में भारत बंद को लेकर पूरे विपक्ष पर निशाना साधाते हुए कहा कि जब वो काला धन बंद करने में जुटे हैं, तो लोग भारतबंद कर रहे हैं। पीएम मोदी के इस हमले से विपक्ष तिलमिलाया हुआ है। कांग्रेस ने कहा कि भारतबंद तो होगा, प्रदेश के बड़े नेता 28 नवंबर को लखनऊ में इसकी अगुआई करेंगे, लेकिन चक्काजाम करने की बजाए ये बंद धरना-प्रदर्शन का रूप दिया जाएगा।

वहीं, समाजवादी पार्टी ने भी पीएम मोदी के कुशीनगर भाषण की आलोचना करते हुए कहा कि अब जनता मोदी को 2017 में बैलेट से जवाब देगी। पार्टी प्रवक्ता मोहम्मद शाहिद ने कहा कि समाजवादी पार्टी भी भारतबंद का समर्थन कर रही है, लेकिन पार्टी का फिलहाल रेल और सड़क बंद करने का उनका कोई इरादा नहीं है। शाहिद  ने कहा कि बंद का सड़कों पर असर जरूर दिखेगा।

बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने पीएम मोदी की रैली को फ्लॉप रैली बताया और कहा कि विपक्ष 90 फीसदी लोगों के दर्द को समझता है। मायावती ने आगे कहा कि विपक्ष काले धन के खात्मे का विरोध नहीं कर रहा है। मायावती ने मोदी पर हमला बोलते हुए कहा कि सिर्फ संत कबीर और बुद्ध का नाम लेने से सफलता नहीं मिलती, बल्कि उनके दिखाए रास्ते पर चलना पड़ता है। पूर्वांचल के लोगों पर प्रधानमंत्री के भाषण का कोई असर नहीं पड़ेगा।

( तस्वीर - फाइल फोटो )