हॉकी: चार देशों का टूर्नामेंट, भारत ने जीता कांस्य पदक

टूर्नामेंट में भारत की मलेशिया पर धमाकेदार जीत, भारत ने 4-1 से जीत दर्ज कर कांस्‍य पदक जीता ।

हॉकी: चार देशों का टूर्नामेंट, भारत ने जीता कांस्य पदक

भारत ने रविवार को यहां चार देशों के आमंत्रण टूर्नामेंट में मलेशिया के खिलाफ कांस्य पदक के प्ले ऑफ मुकाबले में दबदबा बनाते हुए 4-1 से जीत दर्ज करने के साथ तीसरा स्थान हासिल किया। भारतीयों ने खेल की शुरुआत से अंत तक नियंत्रण बनाते हुए अंतिम क्वार्टर में दो गोल कर जीत दर्ज की।

कल मिली निराशा के बाद भारत ने आज दूसरे ही मिनट में गोल कर लिया। टीम मलेशिया के खिलाफ किसी भी तरह के दबाव में नहीं पड़ना चाहती थी। बीरेंद्र लकड़ा ने सेंटर के करीब से गेंद लेकर सर्कल में तिरछा शॉट लगाया। यह क्रास आकाशदीप सिंह के सामने गिरा जिन्होंने सतर्कता दिखाते हुए भारत को बढ़त दिलाई। भारत ने पूरे क्वार्टर में दबदबा कायम रखते हुए कई और मौके बनाए। इस दौरान उन्होंने चार लगातार पेनल्टी कार्नर हासिल किए, लेकिन मलेशिया ने बढ़िया बचाव किया।

दूसरे क्वार्टर में भारतीय फारवर्ड अफान यूसुफ मलेशिया के तीन डिफेंडरों को पछाड़ते हुए गोल की ओर बढ़े, उन्होंने गोल की ओर रिवर्स हिट शॉट लगाया लेकिन मलेशियाई गोलकीपर ने इसका बेहतर बचाव किया। मलेशिया ने मौके बनाने के प्रयास किये लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिली। हाफ टाइम तक भारत ने 1-0 की बढ़त बनाई हुई थी।

तीसरे क्वार्टर में दोनों टीमों ने मौके बनाए। कई बार सर्कल में घुसने के बावजूद किसी भी टीम को तीसरे क्वार्टर के अंत तक गोल करने का सही मौका नहीं मिला। हालांकि अंतिम मिनट में वीआर रघुनाथ ने दो पेनल्टी कार्नर में से एक को गोल में तब्दील कर भारत की बढ़त दोगुनी कर दी।

मलेशिया ने भारतीय डिफेंस की चूक का फायदा उठाया, जोएल वान जुईजेन ने गोल कर स्कोर का अंतर कम किया। अंतिम क्वार्टर में भारत ने दबाव बनाया और कल की गई गलतियों को दोबारा नहीं दोहराया। आकाशदीप फिर इस गोल में सहायक रहे, जिन्होंने सर्कल के अंदर से स्मार्ट शॉट लगाया जो मलेशियाई गोलकीपर ने बचा गया।

हालांकि, इसके बाद फिर उन्होंने मलेशियाई डिफेंस से बचते हुए तलविंदर सिंह को पास दिया जिनके डिफ्लेक्शन पर भारत ने तीसरा गोल किया। रूपिंदर पाल ने 58वें मिनट में पेनल्टी कार्नर के जरिये चौथा गोल दागे।