राजनाथ सिंह पहुंचे क्यूबा, देगें क्रांतिकारी नेता फिदेल कास्त्राे काे अंतिम विदाई

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह फिदेल कास्त्रो के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए बुधवार को क्यूबा पहुंच गए हैं। गृहमंत्री के साथ भारतीय प्रतिनिधिमंडल कर रहे सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी आैर सीपीआई के डी राजा भी है।

राजनाथ सिंह पहुंचे क्यूबा, देगें क्रांतिकारी नेता फिदेल कास्त्राे काे अंतिम विदाई

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह फिदेल कास्त्रो के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए बुधवार को क्यूबा पहुंच गए हैं। गृहमंत्री के साथ भारतीय प्रतिनिधिमंडल कर रहे सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी आैर सीपीआई के डी राजा भी है। बता दें कि बीते शनिवार को क्यूबा आैर दुनिया के महान क्रांतिकारी नेता फिदेल कास्त्रो का 90 वर्ष की उम्र में निधन हो गया था। बताया जा रहा है कि कास्त्रो भारत के अभिन्न मित्र थे।

संसद में चल रहे शीतकालीन सत्र में दोनों सदनों ने  फिदेल कास्त्रो को श्रद्धांजलि दी गई थी और कुछ क्षणों के लिए मौन रखा गया था। राज्यसभा में उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने फिदेल कास्त्रो को साम्राज्यवाद और उपनिवेशवाद के खिलाफ एक विजेता बताया और उनकी उपलब्धियों के बारे में सदन को बताया। उन्होंने कहा कि फिदेल कास्त्रो का निधन क्यूबा के लोगों और पूरी दुनिया के लिए एक अपरिवर्तनीय क्षति है।

इस अतिंम संस्कार में वेनेजुएला के राष्ट्रपति निकोलस मदुरो, इक्वाडोर के राफेल कोरिया, बोलीविया के एवो मोरालेस, निकारागुआ के डेनियल ओर्टेगा, साल्वाडोर सांचेज़, कीरीन के राष्ट्रपति सालवाडोरीन, मेक्सिको के राष्ट्रपति एनरिक पेना निटो, दक्षिण अफ्रीका के जैकब जुमा, जिम्बाब्वे के रॉबर्ट मुगाबे, यूरोपीय संघ की तरफ से ग्रीक प्रधानमंत्री एलेक्सिस टसिप्रास, आयरलैंड के जरमन एडम्स और स्पेन के पूर्व राजा जुआन कार्लोस शामिल होंगे।

आपकाे बता दें कि फिदेल कास्त्रो लंबी समय से बीमार थे। फिदेल कास्त्रो का अंतिम संस्कार 4 दिसंबर को किया जाएगा। फिदेल का भारत के साथ बेहद खास लगाव था और वह हमेशा भारत को एक महान देश मानते थे। फिदेल कास्त्राे के निधन पर पूरा क्यूबा शाैक में डूबा हुआ है।