कांग्रेस पार्टी को ठेके पर दे दिया गया : रीता बहुगुणा जोशी

राजनीतिक दलों की स्थापना सिद्धांतों पर होती है और विचारधारा पर होती है, उनको ठेके पर नहीं दिया जा सकता। कांग्रेस पार्टी को ठेके पर दे दिया गया है। अगर कांग्रेस के पास विचारधारा नहीं है और विचारधारा को आगे ले जाने वाले नहीं है तो कांग्रेस को बंद कर देना चाहिए- रीता बहुगुणा जोशी

कांग्रेस पार्टी को ठेके पर दे दिया गया : रीता बहुगुणा जोशी

राहुल गांधी के पास नेशनल पार्टी चलाने का ना ही अनुभव है और ना ही वो इतने काबिल है। प्रियंका गांधी यूपी की पॉलिटिक्स में अगर एंट्री करेंगी तो भी फुस्स हो जाएंगी। लोग उनको देखने आएंगे लेकिन वोट कोई नहीं देंगे। समाजवादी पार्टी केवल जातीय तिकड़म बिठाती रहती है यूपी की जनता अब ये जान चुकी। मायावती का ‘मुस्लिम प्रेम’ फार्मूला फेल हो जाएगा। तीसरे मोर्चे की हिंदुस्तान की पॉलिटिक्स में कोई संभावना नहीं है। ये सारी बातें पहले कांग्रेस और अब बीजेपी की नेता रीता बहुगुणा जोशी ने नारदा न्यूज के पॉलिटिकल एडिटर विकास राज तिवारी से खास बातचीत में कही। रीता बहुगुणा जोशी ने कांग्रेस पर जमकर वार किया और दावा किया कि आगामी विधानसभा चुनाव का परिणाम बीजेपी के हक में आएगा। साथ ही कहा कि सपा के राज में यूपी का खस्ताहाल हो चुका है। गुंडाराज को बढ़ावा मिला है। जनता ने बीजेपी को जीताने का मन बना लिया है। पेश है नारदा न्यूज के पॉलिटिकल एडिटर विकास राज तिवारी और बीजेपी नेता रीता बहुगुणा जोशी के बीच बातचीत के अंश...

rita666

रीता जी आपने कहा था प्रशांत किशोर पोल मैनेजर हो सकते हैं, पोल डायरेक्टर नहीं। क्या आपको प्रशांत की वजह से कांग्रेस को छोड़ने का फैसला करना पड़ा?

राजनीतिक दलों की स्थापना सिद्धांतों और विचारधारा पर होती है उनको ठेके पर नहीं दिया जा सकता। कांग्रेस पार्टी को ठेके पर दे दिया गया है। अगर कांग्रेस के पास विचारधारा नहीं है और विचारधारा को आगे ले जाने वाले नहीं है तो कांग्रेस को बंद कर देना चाहिए। पार्टी का संचालन ही ठेके पर चल रहा है... जिसको लेकर मैं नाराज चल रही थी। कई बार विरोध के बाद भी बात ना बनी तो कड़ा फैसला करना पड़ा।



कांग्रेस पार्टी, सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के बारे में आप क्या कहेंगी। अगर प्रियंका यूपी चुनाव में प्रचार करती हो तो कांग्रेस को फायदा होगा ?

अगर ऐसा होता तो रायबरेली और अमेठी में कांग्रेस सारी सीटें कैसे हारती। कांग्रेस मुश्किल से एक या दो सीट जीत पाई थी और वो भी बहुत कम वोट के अंतर से। जब प्रियंका जी पूरी तरह से पॉलिटिक्स में उतरेंगी तो उनको पता चलेगा। गांधी परिवार का करिश्मा है लोग उनको देखने आते है लेकिन वो भीड़ वोट में तब्दील हो जाए ऐसा नहीं है। राहुल गांधी के पास नेशनल पार्टी को चलाने का ना ही अनुभव है ना ही काबिलियत। राहुल गांधी को अभी बहुत कुछ सीखना है अभी वो राष्ट्रीय पार्टी चलाने के लायक नहीं है।

rita-bahuguna-joshi_1

यूपी चुनाव में महागठबंधन की बात चल रही है और बीजेपी को चित्त करने की तैयारी है, क्या कहेंगी आप ? 

तीसरे मोर्चे की हिंदुस्तान की राजनीति में कोई संभावना नहीं है जो भी क्षेत्रीय पार्टियां है उनके पास ना कोई विचारधारा है ना ही कोई सोच है। कोई जाति के नाम पर गठित हुआ है तो कोई परिवार के नाम पर चल रहा है। ऐसे में इनके बीच कोई बात बन जाए मुमकिन नहीं लगता।

क्या बीजेपी बागी जोन पार्टी बन चुकी है, बसपा से स्वामी प्रसाद मौर्य आएं, आप भी कांग्रेस का साथ छोड़कर कमल के साथ आ चुकी हैं ?

बीजेपी एक समंदर की तरह है यहां बहुत ही टैलेंटेड और कद्दावर नेता हैं ऐसे में कुछ बाहरी नेता आए हैं तो पार्टी का स्वरुप नहीं बदलेगा। दूसरी पार्टियों के नेताओं का बीजेपी में आना तो ये बताता है कि पीएम मोदी की नीतियां अच्छी है और यूपी में भी बीजेपी की सरकार बननी चाहिए।

उत्तरप्रदेश के चुनाव में जातीय समीकरण हावी रहता है आपकी पार्टी का झुकाव किस तरफ है और जातीय गणित पर आपका क्या मानना है ?

जातीय आधार पर को क्षेत्रीय पार्टियां लड़ रही है। बसपा जाति की बात करती है सपा का काम ही जातीय तिकड़म बिठाना है। बीजेपी में तो सारी जातीयां है हर तबके के लोग हैं। जिस प्रकार का प्रचंड बहुमत बीजेपी को लोकसभा चुनाव में मिला था कुछ वैसा ही यूपी के विधानसभा चुनाव में भी मिलेगा। बीजेपी सबका साथ सबका विकास के फार्मूले पर काम कर रही है।

तीन तलाक और महिलाओं के सम्मान के मुद्दे को आप कैसे देखती है ?

ये मुद्दा स्वयं मुस्लिम महिलाओं ने उठाया है, 21वीं सदी में हर मजहब के हर धर्म के हर समुदाय के लोगों को समझना चाहिए की महिलाएं अपना अधिकार समझने लगी है और महिलाओं के अधिकारों को जो कुंठित करने का प्रयास करेगा उसका विरोध होगा। जब कई देशों में तीन तलाक खत्म हो चुका है तो भारत में क्यों नहीं खत्म हो सकता।

अभी पूरे देश में नोटबंदी की चर्चा हो रही है आपकी पार्टी इसको उपलब्धी बता रही है लेकिन विपक्ष को ये घोटाला लगता है आपका क्या मानना है ?

कालाधन पर कुठाराघात हुआ है आने वाले समय में नोटबंदी का साकारात्मक प्रभाव देखने को मिलेगा, लोगों को आसानी से लोन मिलेंगे। मध्यम वर्ग और निम्न वर्ग के लोगों को इसका फायदा मिलेगा, प्रॉपर्टी के दाम कम होंगे। ईमानदार लोग नोटबंदी के समर्थन में हैं और उनको फायदा भी मिलेगा। और जो लोग भी नोटबंदी का विरोध कर रहे है उनके पास अपना एजेंडा है। वो नोटबंदी जैसे बेहतर फैसले पर भी राजनीति कर रहे है।