जानिए: देश की संपत्ति का कितना फीसदी हिस्सा भारत के अमिरों पर है

क्रेडिट सुइस रिसर्च इंस्‍टीट्यूट ने ग्‍लोबल वेल्‍थ रिपोर्ट जारी की है। इसके अनुसार सबसे ज्‍यादा असमानता वाला देश रूस है। असमानता के मामले में चीन भारत से आगे निकल गया है...

जानिए: देश की संपत्ति का कितना फीसदी हिस्सा भारत के अमिरों पर है

भारत की 60 फीसदी संपत्ति महज 1 फीसदी लोगों के पास है। एक रिपोर्ट के मुताबिक असामनता के मामले में भारत दुनिया में दूसरे नंबर पर है। क्रेडिट सुइस रिसर्च इंस्‍टीट्यूट ने ग्‍लोबल वेल्‍थ रिपोर्ट जारी की है। इसके अनुसार सबसे ज्‍यादा असमानता वाला देश रूस है। असमानता के मामले में चीन भारत से आगे निकल गया है।

बता दें कि दुनियां के अमीरों और कई लोगों के बीच की खाई कम होने का फिलहाल नाम नहीं ले रही है। दुनिया के महज 0.7 फीसदी लोगों के पास दुनिया की आधे से ज्‍यादा संपत्ति है। रूस को सबसे ज्‍यादा असमानता वाला देश करार दिया गया है। यहां देश का 74.5 फीसदी संपत्ति देश के सिर्फ 1 फीसदी अमीरों के पास है।

गौरतलब है कि भारत में जहां 58.4 फीसदी संपत्ति वेल्‍थ 1 फीसदी के पास है, तो थार्इलैंड में यह आंकड़ा 58 फीसदी है। इस मामले में चीन भारत से आगे है। यहां अमीरों के पास देश का 43.8 फीसदी वेल्‍थ है। ब्राजील के मामले में ये आंकड़ा 47.9 है। स्विट्जरलैंड इस साल भी सबसे अमीर देश के तौर पर उभरा है। रिपोर्ट में अमीर और गरीबों के बीच बढ़ती खाई को लेकर चिंता जताई गई है। इंस्‍टीट्यूट ने कहा है कि यह असमानता पूरी दुनिया में एक बड़ी समस्‍या है। जहां दुनिया के निचले तबके के पास पूरी संपत्ति है। वहीं, टॉप 10 अमीरों के पास पूरे ग्‍लोबल संपत्ति का 89 फीसदी है। रिपोर्ट में कहा गया है कि 9 फीसदी वयस्‍क ग्‍लोबली कर्ज में डूबे हैं, जो कि एक चिंता की बात है।

वहीं हमारा कैल्‍कुलेशंस बताता है कि भारत और अफ्रीका में 80 फीसदी वयस्‍क उस तबके से हैं, जिनके  पास सिर्फ 1 फीसदी संपत्ति है। भारत और चीन का निचले तबके में प्रतिनिधित्‍व भी एक दूसरे से काफी अलग है। रैपिड ग्रोथ कर रहे ये दोनों देशों में से जहां भारत के इसमें 31 फीसदी लोग शामिल हैं। बल्कि चीन के सिर्फ 7 फीसदी लोग हैं। भारत में लोगों के पास निजी संपत्ति के तौर पर रियल इस्‍टेट और प्रॉपर्टी सबसे ज्‍यादा है। यह हाउसहोल्‍ड एसेट्स के मामले में 86 फीसदी है। । रिपोर्ट कहती है कि भारत में लगातार संपत्ति बढ़ रही है, लेकिन इसका शेयर सबको नहीं मिल रहा।