कानपुर ट्रेन हादसे में अब तक 142 की मौत, रिलीफ ट्रेन से पटना पहुंचे 350 यात्री

उत्तर प्रदेश में कानपुर में रविवार सुबह इंदौर से पटना जा रही इंदौर-राजेन्द्र नगर एक्सप्रेस दुर्घटनाग्रस्त हो गई, हादसे में मरने वालों की संख्या 142 के पार चली गई है, जबकि 200 लोग जख्मी हुए हैं, जिन्हें नजदीकी अस्पतालों में भर्ती कराया गया है...

कानपुर ट्रेन हादसे में अब तक 142 की मौत, रिलीफ ट्रेन से पटना पहुंचे 350 यात्री

उत्तर प्रदेश में रविवार को कानपूर से लगभग 60 किलोमीटर दूर पुखरायां मे दुर्घटनाग्रस्त हुई इंदौर-पटना एक्सप्रेस में अब तक मरने वालों की संख्या बढ़ कर 142 हो गई है। प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों को पांच-पांच लाख रुपये की आर्थिक मदद का ऐलान किया।

बता दें, इंदौर से पटना जा रही 19321-अप एक्सप्रेस रविवार तड़के 3:09 बजे कानपुर-झांसी रेल रूट के पुखरावां और मलासा स्टेशन के बीच दलेल नगर गांव के दुर्घटनाग्रस्त हो गई थी। रेल हादसे में घायलों का हालचाल लेने हैलट अस्पताल पहुंचे रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा कि पुखरायां हादसे की उच्च स्तरीय जांच के आदेश दिए गए हैं। वहीं रेल लगभग 350 पीड़ितों को लेकर एक स्पेशल ट्रेन पटना पहुंच गई है। ये विशेष ट्रेन सोमवार तड़के पटना पहुंची।

हादसे को लेकर सोमवार को रेल मंत्री सुरेश प्रभु लोकसभा और राज्यसभा में बयान देंगे। बताया जा रहा है कि सुरेश प्रभु 12 बजे संसद में बयान दे सकते हैं. रविवार को कानपुर से लगभग 60 किलोमीटर दूर पुखरायां में इंदौर से पटना जा रही दुर्घटनाग्रस्त हुई इंदौर-पटना एक्सप्रेस में अब तक मृतकों की संख्या 133 हो गई है. जबकि करीब 60 गंभीर रूप से घायल हैं और 150 लोगों को हल्की चोटें आई हैं.पटरी में दरार की आशंका के चलते ट्रेन के उतरने की आशंका जताई जा रही है।

वहीं उत्तर-मध्य रेलवे के महाप्रबंधक अरुण श्रीवास्तव ने कहा कि कानपुर-झांसी रेलमार्ग पर यातायात सोमवार को शुरू हो जाएगा। हादसे के बाद से चार ट्रेनें रद्द कर दी गयी हैं और 14 ट्रेनों का रास्ता बदल दिया गया है।