काले धन का बचाव नहीं पर तुगलक जैसा है पीएम मोदी का कदम: ममता बनर्जी

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री तथा तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी अपनी पार्टी के 44 सांसदों के साथ संसद भवन से राष्ट्रपति भवन तक एक किलोमीटर का पैदल मार्च किया...

काले धन का बचाव नहीं पर तुगलक जैसा है पीएम मोदी का कदम: ममता बनर्जी

केंद्र सरकार द्वारा की गई नोटबंदी के विरोध में राष्ट्रपति डॉ प्रणब मुखर्जी को ज्ञापन सौंपने के लिए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री तथा तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी अपनी पार्टी के 44 सांसदों के साथ संसद भवन से राष्ट्रपति भवन तक एक किलोमीटर का पैदल मार्च किया।

आपको बता दें कि बाहर आने के बाद मीडिया से बात करते हुए ममता बनर्जी ने कहा कि काले धन का बचाव करने की कोई मंशा नहीं, लेकिन पीएम नरेंद्र मोदी का यह कदम मोहम्मद बिन तुगलक जैसा है। नोटबंदी के खिलाफ तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी के नेतृत्व में बहुदलीय प्रतिनिधिमंडल ने राष्ट्रपति डॉ प्रणब मुखर्जी को ज्ञापन दिया है। मार्च में शिवसेना और आप के सांसद भी शामिल हैं। इस मार्च में नेशनल कॉन्फ्रेंस के उमर अब्दुल्ला भी ममता का साथ देते नजर आए।

गौरतलब है कि सहयोगी पार्टी शिवसेना ने भी इस मार्च में शिरकत की। मार्च में शिरकत के लिए खुद ममता बनर्जी ने उद्धव ठाकरे को फोन किया था। राज्यसभा सांसद संजय राउत ने कहा कि नोटबंदी का फैसला शिवसेना से पूछकर नहीं लिया गया है, जनता के हित के मुद्दे पर शिवसेना किसी के भी साथ जा सकती है। क्या ममता, क्या मुलायम? अपने दावे को और मजबूती से रखते हुए राउत ने याद दिलाया कि एक जमाने में ममता उनके साथ रही है और वे जनसमर्थन प्राप्त नेता हैं।