नगरोटा हमला: सेना के शिविर में छुपे आतंकियों को तलाशने के लिए तलाशी अभियान शुरू

जम्मू-कश्मीर में नगरोट हमले के बाद सेना के शिविर में छुपे किसी भी आतंकवादी की तलाशी के लिए आज भारतीय सेना ने तलाशी अभियान शुरू किया।

नगरोटा हमला: सेना के शिविर में छुपे आतंकियों को तलाशने के लिए तलाशी अभियान शुरू

जम्मू-कश्मीर में नगरोट हमले के बाद सेना के शिविर में छुपे किसी भी आतंकवादी की तलाशी के लिए आज भारतीय सेना ने तलाशी अभियान शुरू किया। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक एक दिन पहले आतंकी हमले में सेना के सात जवान शहीद हो गये थे। सेनाध्यक्ष जरनल दलबीर सिंह सुहाग ने दोनों जगह पर हुई मुठभेड़ का जायजा लिया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी की कहना है कि कोई अन्य आतंकवादी तो नहीं छिपा है यह देखने के लिए तलाशी अभियान चलाया गया है।  बता दें कि जम्मू में कल दो आतंकी हमले हुए थे जिसमें मेजर रैंक के दो अधिकारियों सहित सात जवान शहीद हो गये थे और बीएसएफ के एक डीआईजी सहित आठ जवान घायल हो गये थे। वहीं अलग-अलग मुठभेड़ के दौरान छह आतंकवादियों को ढेर कर दिया गया था।

बता दें कि एक हमले में पुलिस की वर्दी पहने भारी हथियारों से लैस आतंकवादियों के एक गुट ने नगरोटा में सेना के एक कैंप पर हमला कर दिया था। यह जगह जम्मू शहर से बाहर कोर मुख्यालय से करीब तीन किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

इस हमले में दो अधिकारी सहित सेना के सात जवान शहीद हो गये और मुठभेड़ में तीन आतंकवादी भी मारे गये थे। वहीं इस हमले में बंधक जैसे हालात पैदा हो गये थे जिसमें 12 जवान, दो महिलाएं और दो बच्चों घिर गये थे। इन सभी लोगों को सुरक्षित बचा लिया गया।

वहीं अंतरराष्ट्रीय सीमा के नजदीक संबा के रामगढ़ में कई घंटों तक चली मुठभेड़ के दौरान बीएसएफ ने तीन आतंकवादियों को मार गिराया। इसके साथ ही पाकिस्तानी जवानों ने भी सीमा पार से भारी गोलीबारी भी की थी। इस मुठभेड़ में बीएसएफ के डीआईजी सहित चार जवान घायल हो गये थे।