नाेटबंदी से हाे रही परेशानियों के लिए पूर्ण रूप से पीएम दोषी है: येचुरी

नोटबंदी से हो रही लोगों की परेशानियों को लेकर सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी ने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा है कि इसके लिए पूर्ण रूप से पीएम दोषी हैं।

नाेटबंदी से हाे रही परेशानियों के लिए पूर्ण रूप से पीएम दोषी है: येचुरी

नाेटबंदी का लेकर विपक्षी दलें भाजपा पर लगातार हमला कर रही हैं। 8 नवंबर काे भारत सरकार द्वारा 500 आैर 1000 के पुराने नाेटों काे अवैध कर दिये जाने के बाद से पूरे देश में हंड़कंप मचा हुआ है। इस नाेटबंदी की घाेषणा के बाद से लाेगाें काे परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। बैंक आैर एटीएम में लंबी कतार देखने काे मिल रही है। बताया जा रहा है कि इस नाेटबंदी के बाद अब तक 35 से ज्यादा लाेगाें की माैत हाे चुकी है। लाेगाें काे पैसे निकालने के लिए घंटाे कतार में खड़ा रहना पड़ रहा है।

इस नाेटबंदी के फैसले के बाद से संसद के शीतकालीन सत्र के दाेनाें सदन में विपक्ष दलाें ने भाजपा पर पहले दिन से ही जमकर हमला किया। इस दाैरान संसदीय कार्यवाई हंगामे के भेंट चढ़ गई। बीते सोमवार को भी गतिरोध के चलते कामकाज नहीं हो सका और सभापति को सदन स्‍थगित करना पड़ा। लोकसभा में शुरू से ही हंगामा होता रहा, राज्‍यसभा कुछ समय के लिए चली मगर बाद में उसे भी पूरे दिन के लिए स्‍थगित कर दिया गया।

वहींं नाेटबंदी काे लेकर माकपा महासचिव एवं पाेलित ब्यूराे सदस्य सीताराम येचुरी ने संसद में माेदी सरकार काे घेरते हुए कहा था कि, नोटबंदी से भ्रष्टाचार पर रोक नहीं लगने वाली। उन्होंने सुझाव देते हुए कहा कि भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने के लिए राजनीतिक पार्टियों की कॉर्पोरेट फंडिंग पर रोक लगनी चाहिए। उन्होंने आगे कहा, सभी राजनीतिक पार्टियों को चुनाव आयोग के माध्यम से सरकारी पैसों पर चुनाव लड़ना चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर आज संसद में कामकाज नहीं हो रहा है तो इसके लिए पूर्ण रूप से पीएम दोषी हैं जो अहंकार के कारण संसद को संबोधित नहीं कर रहे हैं। सीताराम येचुरी ने कहा चर्चा जब पीएम द्वारा की गई घोषणा पर चर्चा हो रही हो तो उन्हें भी चर्चा में शामिल होना चाहिए।

येचुरी ने राज्यसभा में कहा था कि, देश में 86 फीसदी करेंसी 500-1000 रुपये के नोटों के रूप में है। और आज पूरा देश सिर्फ 14 फीसदी चालू करेंसी के भरोसे चल रहा है। उन्होंने यह भी बताया कि कैश के रूप में कालाधन केवल 6 फीसदी है, जबकि अधिकतम कालाधन अन्य माध्यमों के जरिए इधर-उधर होता है।

इस नाेटबंदी  के विरोध में तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मार्च किया था इस मार्च में ममता के साथ दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी शामिल थे। टीएमसी के सांसदों की अगुवाई करते हुए ममता बनर्जी ने राष्ट्रपति भवन तक मार्च किया था। ममता के नेतृत्व में हुए इस मार्च में उनके साथ नेशनल कान्फ्रेंस और NDA के सहियोगी दल शिवसेना के सांसद भी शामिल थे। राष्ट्रपति भवन पहुंच कर ममता बनर्जी ने राष्ट्रपति को ज्ञापन सौंपा।