सरताज अज़ीज़ आएंगे भारत, दोनों देशों के बीच तनाव कम करने की करेंगे कोशिश

पाक के टॉप अफसरों का कहना है कि नवाज शरीफ के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज भारत आ सकते हैं...

सरताज अज़ीज़ आएंगे भारत, दोनों देशों के बीच तनाव कम करने की करेंगे कोशिश

पाकिस्तान, भारत के साथ चल रहे तनाव को कम करने की कोशिश में जुटा है। पाक के टॉप अफसर की मानें तो नवाज शरीफ के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज भारत आ सकते हैं। वे यहां हार्ट ऑफ एशिया समिट में हिस्सा ले सकते हैं। बताया जा रहा है कि सरताज के इस दौरे का मकसद दोनों देशों के बीच तनाव को कम करना है। बता दें कि दिसंबर के पहले हफ्ते में अमृतसर में हार्ट ऑफ एशिया समिट होनी है। उड़ी हमले के बाद भारत आने वाले सरताज पहले पाक नेता होंगे।

आपको बता दें कि अगर सरताज भारत आते हैं तो ये उड़ी हमले के बाद पहली बार होगा कि पाक का कोई नेता भारत आ रहा हो। सरताज ने कहा कि दोनों देशों के बीच तनाव कम करने का ये अच्छा मौका हो सकता है।

हालांकि अजीज ने ये भी कहा कि भारत आने पर फिलहाल उनका किसी अफसर या लीडर से मुलाकात का प्रोग्राम नहीं है। ये सब उस वक्त सिचुएशन पर निर्भर करेगा। 18 सितंबर को उड़ी के ब्रिग्रेड हेडक्वार्टर पर हुए आतंकी हमले में 20 जवान शहीद हो गए। कार्रवाई में 4 आतंकियों को मार गिराया गया। इसके बाद भारत ने पाक को इंटरनेशनल लेवल पर अलग-थलग करने की बात कही।

यूएन जनरल असेंबली के सेशन में नवाज शरीफ ने अपनी स्पीच में 8 मिनट कश्मीर पर बात की और आतंकी बुरहान वानी को शहीद बताया। 26 सितंबर को यूएन में सुषमा ने अपनी स्पीच में कहा कि कश्मीर भारत का है और रहेगा। पाकिस्तान को ख्वाब देखना बंद कर देना चाहिए। उन्होंने कहा कि हमें आतंकवाद से मुकाबले के लिए रणनीति बनानी होगी। यदि कोई देश इस तरह की रणनीति में शामिल नहीं होना चाहे, तो हम उसे अलग-थलग कर देंगे। भारत ने 28-29 सितंबर को एलओसी पार कर पीओके में घुसकर पैराकमांडोज ने आतंकियों के लॉन्चिंग पैड्स पर हमला किया और 38 टेररिस्ट मार गिराए।