संसद में पहुंचे पीएम लेकिन विपक्ष के हंगामों के बिच रहे खामोश

संसद के शीतकालीन सत्र के छठे दिन बुधवार को लोकसभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आखिरकार विपक्ष की डिमांड पर संसद पहुंच ही गए. लेकिन उनकी मौजूदगी के बावजूद, नोटबंदी के मुद्दे पर दोनों सदनों में विपक्ष ने जमकर हंगामा किया...

संसद में पहुंचे पीएम लेकिन विपक्ष के हंगामों के बिच रहे खामोश



आखिरकार विपक्ष की डिमांड पर संसद के शीतकालीन सत्र के छठे दिन बुधवार को लोकसभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संसद पहुंच ही गए। लेकिन  उनकी मौजूदगी के बावजूद, नोटबंदी के मुद्दे पर दोनों सदनों में विपक्ष ने जमकर हंगामा किया। जैसे ही दोनों सदनों की कार्यवाही शुरू हुई, विपक्ष ने हंगामा करना शुरू कर दिया. लोकसभा में मौजूद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चुपचाप बैठे सब सुनते रहे. भारी हंगामे के चलते लोकसभा की कार्यवाही को गुरुवार तक के लिए स्थगित कर दिया गया है।




बता दें, विपक्ष लगातार मांग कर रहा है कि लोगों को हो रही असुविधा को लेकर सरकार अपने फैसले पर फिर से विचार करे। इस पर केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने बुधवार को साफ कर दिया कि नोटबंदी पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपना फैसला वापस नहीं लेंगे। उन्होंने कहा कि 'वापस लेना मोदी जी के खून में नहीं है।'

संसद में विपक्ष के रवैये की आलोचना करते हुए केंद्राय मंत्री वैंकेया नायडू ने कहा कि, 'आज प्रधानमंत्री के लोकसभा में मौजूद रहने के बावजूद, विपक्ष सदन को काम करने क्यों नहीं दे रहा है। हंगामा करना विपक्ष की आदत हो गई है।' वेंकैया ने प्रधानमंत्री मोदी को गरीबों का मसीहा बताया।उन्होंने कहा, 'गरीब लोग चाहते हैं कि नोटबंदी सफल हो, वे लोग प्रधानमंत्री को मसीहा की तरह देखते हैं, ता सरकार के इस फैसले में विपक्ष '।