साल्वाडोर में भूकंप के बाद सुनामी के लिए अलर्ट जारी

सेंट्रल अमेरिका के साल्वाडोर में 7.2 की तीव्रता से महसूस किए गए भूकंप के झटके, सुनामी के मद्देनजर अलर्ट जारी ।

साल्वाडोर में भूकंप के बाद सुनामी के लिए अलर्ट जारी

सेंट्रल अमेरिका के देश निकारागुआ के साल्वाडोर के नजदीक देर रात भूकंप के झटके महसूस किए गए। जिसकी तीव्रता 7.2 दर्ज की गई। यूएस जियोलॉजिकल सर्वे ने बताया कि भूकंप का केंद्र प्रशांत महासागर में साल्वाडोर से 149 किमी दूर 33 किमी. की गहराई में था। अभी तक किसी प्रकार के कोई नुकसान की ख़बर नहीं आई है। भूकंप के बाद सुनामी का अलर्ट जारी कर दिया गया है।

पैसिफिक सुनामी वॉर्निंग सेंटर के मुताबिक, भूकंप की वजह से प्रशांत महासागर में 3 फीट ऊंची लहरें उठ सकती हैं।

इससे पहले गुरुवार को कैरिबियाई सागर से उठे तूफान ओट्टो और हरीकेन निकारागुआ के साउथ-ईस्ट कोस्ट से टकराया था। इस हरीकेन के चलते हवाओं की स्पीड 175 किमी/घंटा आंकी गई। वहां के कोस्टल एरिया में बने राहत कैंपों से हजारों लोगों को दूसरी जगह ले जाया गया था। भूकंप के झटके निकारागुआ की राजधानी मानागुआ और कोस्‍टा रिका की राजधानी सैन जोस तक में महसूस किए गए। जान-माल के नुकसान की कोई खबर नहीं है।

निकारगुआ के प्रेसिडेंट डेनियल ओर्टेगा ने हरीकेन और भूकंप के बाद इमरजेंसी का एलान किया। सभी एजेंसियों को राहत और बचाव में जुटने के लिए आदेश दिए गए हैं। हजारों लोगों को तटीय इलाकों से सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया है।

रिंग आॅफ फायर की वजह से आता है भूकंप ?

जापान भूकंप के सबसे ज्यादा सेंसिटिव एरिया में है। यह पैसिफिक रिंग ऑफ फायर में आता है। रिंग ऑफ फायर ऐसा इलाका है, जहां कई कॉन्टिनेंटल के साथ ही ओशियनिक टेक्टॉनिक प्लेट्स भी हैं। ये प्लेट्स आपस में टकराती हैं तो भूकंप आता है, सुनामी उठती है और वॉल्केनो फटते हैं। इस रिंग ऑफ फायर का असर न्यूजीलैंड से लेकर जापान, अलास्का और उत्तर, सेंट्रल और साउथ अमेरिका तक देखा जा सकता है। दुनिया के 90% भूकंप इसी रिंग आॅफ फायर में आते हैं। यह इलाका 40 हजार किलोमीटर में फैला है। दुनिया में जितने एक्टिव वॉल्केनो हैं, उनमें से 75% इसी एरिया में हैं। 15 देश इस रिंग ऑफ फायर की जद में हैं।