नोटबंदी के खिलाफ AAP ने किया प्रदर्शन, सिसोदिया-कपिल मिश्रा हिरासत में

दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और कैबिनेट मंत्री कपिल मिश्रा को पुलिस ने हिरासत में ले लिया, दाेनाे आप नेता नोटबंदी के खिलाफ आम आदमी पार्टी के विरोध प्रदर्शन की अगुवाई कर रहे थे

नोटबंदी के खिलाफ AAP ने किया प्रदर्शन, सिसोदिया-कपिल मिश्रा हिरासत में

दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और कैबिनेट मंत्री कपिल मिश्रा को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। सिसोदिया के साथ आप नेता कपिल मिश्रा को भी हिरासत में लिया गया । दाेनाे आप नेता नोटबंदी के खिलाफ आम आदमी पार्टी के विरोध प्रदर्शन की अगुवाई कर रहे थे। पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को संसद की तरफ बढ़ने से भी रोक दिया। बता दें कि आम आदमी पार्टी संसद तक मार्च कर रही थी।

इससे पहले ही यह जानकारी मिली थी कि इससे पहले सिसोदिया ने नजफगढ़ के उस परिवार से जाकर मुलाकात की थी जिसके एक सदस्य की मौत कथित तौर पर बैंक की लाइन में लगे-लगे हो गई थी। सिसोदिया ने वहां पर पीएम मोदी के फैसले की निंदा भी की थी। सिसोदिया ने ट्विटर पर लिखा था, ‘मोदी जी आप कहते हो नोटबंदी से आम आदमी चैन की नींद सोएगा। यह मार्च शुरू करने से पहले उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा था 'हमें अपनी आवाज संसद के अंदर बैठे लोगों तक पहुंचानी है, इसलिए संसद का घेराव किया जा रहा है। हमें पता है कि हमारी आवाज दबाने की कोशिश की जाएगी।

संसद मार्च के लिए सुबह से आप पार्टी के तमाम विधायक, नेता और कार्यकर्ताओं का आना शुरू हो गया था। इससे पहले सोशल मीडिया पर आप पार्टी के सभी छोटे बड़े नेताओं और नोटबंदी के फैसले पर निशाना साधा था। बीते सोमवार को किए गए ट्वीट में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) द्वारा शादी वाले परिवार के लिए 2.5 लाख रुपए निकालने के लिए जो नई गाइडलाइन बनाई गई हैं उसे निशाना बनाया गया था। इसपर केजरीवाल ने लिखा, ‘सालियों को जूता चुराई के रुपए देंगे तो सालियों की लिस्ट बैंक को दें और साबित करें कि सालियों का बैंक अकाउंट नहीं। सालियां रसीद देंगी।

आपकाे बता दें कि आम आदमी पार्टी का कहना है कि नोटबंदी की आड़ में देश का अब तक का सबसे बड़ा घोटाला किया गया है। यह 8 लाख करोड़ रुपये का घोटाला है। अब तक जनता 5 लाख करोड़ रुपये बैंकों में जमा करा चुकी है और वहीं सरकार अपने करीबियों का हजारों करोड़ रुपये का लोन माफ करने में जुट गई है। पार्टी नेताओं का कहना है कि हमें पता है मोदी जी कि पुलिस हमारी आवाज दबाएगी, लेकिन हम भी गरीब जनता की आवाज को संसद के अंदर बैठे लोगों तक पहुंचाने की पूरी कोशिश करेंगे। अगर हमें गिरफ्तारी भी देनी पड़ी तो हम तैयार हैं। जंतर मंतर पर इक्कठा आप विधायक और कार्यकर्ता मोदी तेरी तानाशाही नहीं चलेगी नहीं चलेगी के नारे भी लगा रहे थे।