SBI विजय माल्या समेत 63 डिफॉल्टर्स से नहीं वसूलेगा 7000 करोड़

भारतीय स्टेट बैंक ने शराब कारोबारी विजय माल्या समेत 63 कर्जदारों के करीब 7000 करोड़ रुपए के लोन को डूबा हुआ मान लिया है और पूरा कर्ज छोड़ने का फैसला लिया है।

SBI विजय माल्या समेत 63 डिफॉल्टर्स से नहीं वसूलेगा 7000 करोड़

भारतीय स्टेट बैंक ने शराब कारोबारी विजय माल्या समेत 63 कर्जदारों के करीब 7000 करोड़ रुपए के लोन को डूबा हुआ मान लिया है। मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक एसबीआई का मानना है कि विजय माल्या उसका लोन चुकाने की स्थिति में नहीं है, इसलिए बैंक ने माल्या के लोन को डूबा हुआ मान लिया है। रिपोर्ट के अनुसार स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने 63 डिफाल्टरों का पूरा कर्ज छोड़ दिया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक एसबीआई जब बकाया लोन वसूल करने में फैल रही तो उसने शीर्ष 100 डिफाल्टरों में से 60 से अधिक पर बकाया 7016 करोड़ रुपए का लोन माफ करने का फैसला कर लिया है। जिन डिफॉल्टरों पर कर्ज छोड़ा गया है,वह इस प्रकार हैं- किंगफिशर एयरलाइंस (1201 करोड़), के.एस. ऑयल (596 करोड़), सूर्या फार्मास्यूटिकल (526 करोड़), जी.ई.टी. पावर (400 करोड़) और साई इंफो सिस्टम (376 करोड़)। हालांकि बैंक का कहना है कि यह एक कॉमर्शियल निर्णय है और इसका मोदी सरकार के नोटबंदी से कोई संबंध नहीं है।

बता दें कि हाल ही में मुंबई की एक स्पैशल पी.एम.एल.ए. कोर्ट ने शराब कारोबारी विजय माल्या को भगोड़ा घोषित किया है। इसके साथ ही कोर्ट ने माल्या की सभी घरेलू संपत्ति, शेयर और डिबेंचर को जब्त करने का आदेश दिया है। इससे पहले बॉम्बे हाईकोर्ट माल्या को भगोड़ा घोषि‍त कर चुका है, तो सुप्रीम कोर्ट ने उनको हलफनामा दायर कर देश-विदेश में जमा की गई सारी संपत्ति की जानकारी देने को कहा था।

गौरतलब है कि शराब कारोबारी विजय माल्या पर विभिन्न बैंकों का नौ हजार करोड़ रुपए का बकाया था। जब सभी बैंक मिलकर बकाया वसूलने के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंचे तो माल्या देश से फरार हो गया। बता दें कि किंगफिशर एयरलाइंस पर 17 बैंकों का कुल 6993 करोड़ रुपए बकाया है जिसमें 1201 करोड़ रुपए एसबीआई के हैं।