सीरियाः 3 लाख लोगों की मौत के बाद 4 साल बाद सरकार के नियंत्रण में अलेप्पो

सीरिया के शहर अलेप्पो को सेना ने अपने पूरे नियंत्रण में ले लिया है। यहां साल 2011 से शुरू हुए गृह युद्ध पर अब तक की सबसे बड़ी जीत के तौर पर देखा जा रहा है।

सीरियाः 3 लाख लोगों की मौत के बाद 4 साल बाद सरकार के नियंत्रण में अलेप्पो

सीरिया के शहर अलेप्पो को सेना ने अपने पूरे नियंत्रण में ले लिया है। यहां साल 2011 से शुरू हुए गृह युद्ध पर अब तक की सबसे बड़ी जीत के तौर पर देखा जा रहा है। सीरियाई सेना के हवाले  से अतंरराष्ट्रीय मीडिया ने शहर को विद्रोहियों से पूरी तरह खाली कराए जाने के संबंध में जानकारी दी। इसके साथ ही करीब एक महीने से पूर्वी अलेप्पो में चल रहा खूनी संघर्ष अब खात्म हो गया है।

ज्ञात हो कि कुछ समय पहले रेड क्रॉस यहां मौजूद करीब चार हज़ार से ज्यादा विद्रोहियों को खदेड़ने की बात कह चुकी है। इस एक महीने में पूर्वी अलेप्पो को जो नुकसान की जानकारी है, वह सीरिया में विद्रोही आंदोलन के चलते बीते छह सालों की तबाही में सबसे भयानक माना जा रहा है। एक आंकड़े के मुताबिक इस संघर्ष में करीब 3 लाख दस हज़ार से ज़्यादा लोगों ने अपनी जान गंवा चुके हैं। सेना के एलान के साथ ही सीरियाई सरकार का पांच प्रमुख शहरों अलेप्पो, होम्स, हमा, दमिश्क और लताकिया पर नियंत्रण स्थापित हो गया है। राष्ट्रपति बशर अल-असद और उनके सहयोगियों के लिए इसे बड़ी जीत माना जा रहा है, जबकि उनके विरोध का समर्थन करनेवाले सऊदी अरब, कतर और कुछ पश्चिमी देशों के लिए यह करारी हार से कम नहीं है।

सीरिया में हुए इस खूनी संघर्ष को लेकर अंतरराष्ट्रीय समुदाय में तनाव का माहौल बना हुआ था। खासतौर पर रूस और अमेरिका के बीच इस संघर्ष के कारण संबंध कटु थे। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक राष्ट्रपति असद के हवाले से स्टेट न्यूज़ एजेन्सी सना ने कहा कि अलेप्पो की आज़ादी सीरिया की ही नहीं बल्कि उन सब लोगों की जीत है जिन्होंने आतंकवाद के खिलाफ अपना योगदान दिया, विशेषकर रूस और ईरान। असद ने कहा कि सीरियाई सेना और मित्र देशों की सेना को इसके लिए मैं बुहत बहुत धन्यवाद देता हूं कि उन्होंने आंतकवादियों के चुंगल से अलेप्पो शहर को आज़ाद करवाया और वहां की जनता को नई जिंदगी दी।

करीब एक महीना चले जबर्दस्त संघर्ष के बाद साल 2012 से अलेप्पो पर कब्जा जमाए बैठी विद्रोही सेना को आखिरकार हटना पड़ा। इस संघर्ष में करीब 90 प्रतिशत अलेप्पो उनके हाथ से चला गया है हालांकि अलेप्पो के विद्रोह प्रभावित क्षेत्र के खाली होने से बड़ा मानवीय व शरणार्थी संकट पैदा हो गया है। युद्ध के समाप्त होने से असद को बड़ा रणनीतिक फायदा मिला है। वहीं विद्रोहियों के मैदान छोड़ देने से लड़ाई खत्म करने को लेकर अंतरराष्ट्रीय प्रयासों को बल मिला है।