'आधार' बिना जीवन अधूरा

जिन लोगों का आधार कार्ड नहीं बना है वह अब सरकार द्वारा मिलने वाली गैस सब्सिडी से हमेशा के लिए वंचित हो जाएंगे और अब से जिन छात्रों के पास आधार कार्ड नहीं है वो आईआईटी मेन का फार्म नहीं भर पाएंगे ।

आधार कार्ड के बिना अब आपना जीना मुहाल हो जाएगा। आधार कार्ड न केवल सरकारी मदद के लिए जरूरी है बल्कि पढ़ाई-लिखाई के लिए भी आवश्यक अनिवार्य है।

आधार कार्ड को लेकर 1 दिसंबर से दो बड़े फैसले लागू हो गए हैं। अगर आपके पास आधार कार्ड नहीं है तो आपको रसाई गैस पर सरकार की तरफ से मिलने वाली सब्सिडी बंद हो जाएगी। इसके अलावा उन स्टूडेंट्स को दिक्कत होगी जो आईआईटी मेन के फॉर्म भरने वाले हैं और उनके पास आधार कार्ड नहीं है।

ऑयल कंपनियों ने निर्देश जारी किए हैं कि 1 दिसंबर से पहले तक बिना आधार कार्ड से चल रहे गैस कनेक्शनों पर दी जा रही सब्सिडी बंद कर दी जाएगी। हालांकि जितने आधार कार्ड गैस एजेंसी से पहले से लिंक हैं, उन्हें सब्सिडी दी जाएगी। ऐसे में अगर आपने भी अपना गैस कनेक्शन आधार नंबर से लिंक नहीं कराया है या आपके पास आधार कार्ड नहीं है तो आपको एलपीजी पर मिलने वाली सब्सिडी बंद हो जाएगी।

अगर आपके पास आधार कार्ड नहीं है या आधार कार्ड होते हुए भी आपने इसे अपनी गैस एजेंसी से लिंक नहीं कराया है तो परेशान होने की बात नहीं है। गैस कनेक्शन को आधार नंबर से लिंक कराने की आखिरी तारीख 31 दिसंबर 2016 तय की गई है। अगर 31 दिसंबर तक भी आप आधार नंबर को गैस कनेक्शन से लिंक नहीं कराते हैं तो आप हमेशा के लिए सब्सिडी से वंचित हो जाएंगे।

रसोई गैस की कालाबाजारी को रोकने के मकसद से सरकार ने सब्सिडी वाले सिलेंडरों की संख्या सीमित कर दी है। सितंबर 2012 में सरकार ने सालभर में सब्सिडी वाले 6 सिलेंडर ही देने की शुरुआत की थी। जनवरी 2013 में इनकी संख्या 9 कर दी गई थी और जनवरी 2014 में इसे 12 कर दिया गया था। सरकार ने इस प्रक्रिया में पारदर्श‍िता लाने के लिए गैस कनेक्शन को आधार नंबर से जोड़ना शुरू करने की योजना शुरू की। घरेलू गैस पर सब्सिडी उन लोगों को नहीं मिलती जिनकी सालाना आमदनी 10 लाख रुपये या उससे ज्यादा है। इसके अलावा जिनकी आमदनी 10 लाख रुपये से कम भी है तो वो अपनी इच्छा से अपनी सब्सिडी छोड़ सकते हैं।

आईआईटी मेन के लिए फॉर्म 1 दिसंबर से भरे जा रहे हैं। जिन छात्रों के पास आधार नंबर नहीं है, वो इस परीक्षा के लिए अप्लाई नहीं कर पाएंगे। क्योंकि सीबीएसई ने आईआईटी जेईई के सभी प्रतिभागियों के लिए आधार नंबर जरूरी कर दिया है। ऐसे प्रतिभागी जो मेन परीक्षा के लिए आवेदन कर रहे हैं उनके पास 12 अंकों वाला आधार नंबर या 28 अंकों वाला आधार रजिस्ट्रेशन रसीद नंबर जरूरी है। यानी आपने अगर आधार कार्ड के लिए अप्लाई किया है और आपको अपना आधार कार्ड अभी डाक से या ऑनलाइन नहीं मिला है तो घबराने की कोई बात नहीं। रसीद नंबर से भी काम चल जाएगा।