‘आसुरी शक्तियों’ का नाश कर बीजेपी लहराएगी परचम- हरीश द्विवेदी

यूपी में गांव गरीब और मजदूर की सरकार चाहिए ना कि उन ‘आसुरी शक्तियों’ की सरकार जिनका मकसद केवल पैसा बनाना है। वो लोग तो सत्ता के लिए समाज को तोड़ने का काम करते है। हमारी पार्टी जोड़ने में विश्वास रखती है। नोटबंदी के बाद कई लोग पागल हो गए हैं कई लोगों को मिर्ची लगी है। ये सारी बातें उत्तरप्रदेश के बस्ती से बीजेपी सांसद हरीश द्विवेदी ने नारदा न्यूज के पॉलिटिकल एडिटर विकास राज तिवारी से खास बातचीत में कही।

‘आसुरी शक्तियों’ का नाश कर बीजेपी लहराएगी परचम- हरीश द्विवेदी

यूपी में गांव गरीब और मजदूर की सरकार चाहिए ना कि उन ‘आसुरी शक्तियों’ की सरकार जिनका मकसद केवल पैसा बनाना है। वो लोग तो सत्ता के लिए समाज को तोड़ने का काम करते हैं। हमारी पार्टी जोड़ने में विश्वास रखती है। नोटबंदी के बाद कई लोग पागल हो गए हैं कई लोगों को मिर्ची लगी है। ये सारी बातें उत्तरप्रदेश के बस्ती से बीजेपी सांसद हरीश द्विवेदी ने नारदा न्यूज के पॉलिटिकल एडिटर विकास राज तिवारी से खास बातचीत में कही। पेश है बातचीत के मुख्य अंश...

हरीश जी यूपी चुनावों से पहले एक बार फिर से राम मंदिर का मुद्दा गरमाया हुआ है, क्या कहेंगे आप ? बीजेपी का क्या प्लान है ?    

भगवान राम का मंदिर अयोध्या में बनना चाहिए। राम मंदिर बीजेपी के लिए हमेशा से भावनात्मक मुद्दा रही है, भगवान राम हमारे साथ रहे हैं और रहेंगे। बीजेपी ने राम मंदिर के नाम पर चुनावी फायदा लेने की बात कभी नहीं सोची अगर कोई ऐसे आरोप लगाता है तो गलत है।

यूपी के राजनीतिक हालात और कास्ट इक्वेशन पर आपका नजरिया क्या है ?

IMG_8034 (1)इस बार कास्ट इक्वेशन नाम की कोई चीज नहीं है। पीएम मोदी के विकास कार्यों को देखते हुए हर जाति और तबके के लोगों ने बीजेपी को जिताने का मन बना लिया है। मुस्लिम, यादव, हरिजन समेत सभी जाति के लोग बीजेपी की विकास यात्रा के साथ हैं। इस बार सूबे की आसुरी शक्तियों को परास्त करने के लिए यूपी की जनता वोट करेगी। जो लोग अफजल गुरु और अलगाववादियों तक का समर्थन कर सकते है वो कुछ भी कर सकते हैं, वो लोग तोड़ने वाली राजनीति कर कई सालों से राज कर रहे है। यूपी की जनता उन आसुरी शक्तियों का साथ नहीं देगी। नोटबंदी पर देखिए अरविंद केजरीवाल पागल हो रहे हैं और ममता बनर्जी को मिर्ची लगी है। मायावती जी की परेशानी इस कदर बढ़ गई है कि जैसे कितना अनमोल चीज गुम हो गया हो।

युवाओं की राजनीति और यूपी के युवा सीएम के बारे में आपकी राय क्या है ?  

यूपी के सीएम अखिलेश यादव ने सूबे के नौजवानों को ठगने का काम किया है। उन्होंने सपने तो बहुत दिखाए, किया कुछ नहीं। अखिलेश राज में टैलेंटेड युवाओं का सेलेक्शन केवल इसलिए नहीं किया जाता क्योंकि वो एटा, इटावा और मैनपुरी जैसे समाजवादियों के गढ़ वाले जिले से नहीं होते है। लोकसेवा आयोग में भ्रष्टाचार का खेल जारी है माध्यमिक शिक्षा का बुरा हाल है। यूपी में अपराधियों का राज है। युवा सीएम के होते हुए सबसे ज्यादा युवा ही छले जा रहे है।

आपकी पार्टी सीएम फेस तक तय नहीं कर पा रही है। तकरार जगजाहिर है, कहीं ऐसा तो नहीं यूपी बीजेपी मोदी भरोसे है।

IMG_8071

पीएम मोदी अच्छा काम कर रहे हैं, स्वभाविक है कि हम मोदी जी के अच्छे कार्यों को को लेकर जनता के बीच जाएंगे। रही बात सीएम फेस की तो यूपी बीजेपी में चेहरों की कमी नहीं है। लेकिन चुनाव बीजेपी लड़ेगी पार्टी का चुनाव चिन्ह कमल का फुल लड़ेगा।

आप आगामी यूपी चुनाव में जीत का दावा कर रहे हैं, आपके हिसाब से नंबर टू कौन सी पार्टी होगी।

यूपी चुनाव में बीजेपी को प्रचंड बहुमत मिलने वाला है। वहां नंबर टू और थ्री का सवाल ही नहीं है। यहां तो एकतरफा लड़ाई है। 2014 के लोकसभा चुनाव में जनता ने बता ही दिया है कि यूपी में बस बीजेपी है।

चुनाव के बाद अगर जरुरत पड़ी तो क्या आप बसपा से हाथ मिला सकते हैं। और क्या आपने दूसरे दलों के नेताओं के लिए अपने दरवाजे खोल रखे हैं।

बीजेपी पूर्ण बहुमत की बनाने की दिशा में काम कर रही है चुनाव पूर्व या चुनाव बाद किसी भी दल से गठबंधन का कोई इरादा नहीं है। रही बात दूसरे दलों से आने वाले नेताओं की तो कोई भी नेता अगर हमारी नीतियों और विचारधारा से सहमत है तो उनका स्वागत है। और लोग आ भी रहे हैं।

समाजवादी परिवार में जो युद्ध चल रहा है, आप किस तरीके से देखते है ?   

समाजवादी परिवार में केवल वर्चस्व की लड़ाई है पैसे के बंटवारे को लेकर जंग जारी है आपने देखा जैसे ही पीएम साहब ने नोटबंदी की बात कही अपने आप इनकी लड़ाई बंद हो गई। ये चाचा-भतीजा मिलकर जनता को मूर्ख बना रहे है।