अगस्ता वैस्टलैंट केस: एसपी त्यागी को कोर्ट से जमानत

अगस्ता वैस्टलैंट केस में पूर्व वायुसेना प्रमुख एसपी त्यागी को पटियाला हाउस कोर्ट से जमानत मिली।

अगस्ता वैस्टलैंट केस: एसपी त्यागी को कोर्ट से जमानत

अगस्ता वैस्टलैंट केस में पूर्व वायुसेना प्रमुख एसपी त्यागी को पटियाला हाउस कोर्ट से जमानत मिली। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 3,767 करोड़ रुपए के अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर घोटाले में वायुसेना के पूर्व प्रमुख एसपी त्यागी और अन्य को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की हिरासत में लिया हुआ था। एसपी त्यागी के वकील ने नई दिल्ली के पाटियाला हाउस कोर्ट में कहा था कि वीवीआईपी हेलीकॉप्टर के उड़ने की न्यूनतम ऊंचाई सीमा प्रधानमंत्री कार्यालय की सलाह के बाद घटाई गई थी। हिरासत की मांग वाली सीबीआई की याचिका का विरोध करते हुए त्यागी के वकील एन.हरिहरन ने अदालत में कहा था कि "तत्कालीन प्रधानमंत्री कार्यालय ने हेलीकॉप्टरों के उड़ने की न्यूनतम ऊंचाई 4,500 मीटर (पहले 6,000 मीटर) करने की सलाह दी थी।

हालांकि, अदालत ने इन दलीलों को नकारते हुए सीबीआई को त्यागी, उनके रिश्तेदार संजीव त्यागी उर्फ जूली त्यागी तथा दिल्ली के एक वकील गौतम खेतान से 14 दिसंबर तक पूछताछ की मंजूरी दे दी। एजेंसी ने पूछताछ करने के लिए आरोपियों की 10 दिनों की हिरासत की मांग की थी।

सीबीआई के मुताबिक, विभिन्न कंपनियों के माध्यम से भारी मात्रा में रकम भारत आई थी, जिसका खुलासा करने के लिए आरोपियों की हिरासत की जरूरत बताई। सीबीआई और आरोपी के वकील के बीच दो घंटे तक चली बहस के बाद दंडाधिकारी ने कहा था कि "आरोपों की गंभीरता पर विचार करते हुए मैं इस नतीजे पर पहुंचा हूं कि निष्पक्ष जांच के लिए आरोपी को पुलिस हिरासत की जरूरत है।

सीबीआई ने अदालत से कहा था कि तीन देशों-इटली, स्विट्जरलैंड और मॉरिशस से पत्र नियामकों के माध्यम से महत्वपूर्ण जानकारियां एकत्रित की गई हैं और सौदे में हुई साजिश का खुलासा करने के लिए आरोपियों को आमने-सामने कर पूछताछ करने की जरूरत है।

सीबीआई ने अदालत से कहा था कि संजीव त्यागी के माध्यम से अगस्ता वेस्टलैंड के वरिष्ठ अधिकारियों और एसपी त्यागी के बीच नियमित बैठकें हुईं। हेलीकॉप्टर की न्यूनतम ऊंचाई कम करने के लिए एक साजिश रची गई, जिसके बाद अगस्ता वेस्टलैंड कंपनी सौदे के लिए सक्षम हो सकी थी। मामले में निर्दोष होने का दावा करते हुए बचाव पक्ष के वकील हरिहरण ने कहा था कि वीवीआईपी हेलीकॉप्टरों को खरीदने का फैसला संयुक्त रूप से लिया गया था।