राष्ट्रपति मुलाकात से पहले विपक्षी दलों में पड़ी फूट

नोटबंदी और अन्य मुद्दों को लेकर राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से मुलाकात से पहले ही विपक्षी दलों में फूट पड़ गई। राष्ट्रपति से विपक्षी दल की मुलाकात में एनसीपी शामिल नहीं होगी। एनसीपी ने कहा कि किसानों की समस्या को लेकर कांग्रेस पीएम मोदी से मिलने अकेले क्यों गई। क्या दूसरे दलों को किसानों की चिंता नहीं है।

राष्ट्रपति मुलाकात से पहले विपक्षी दलों में पड़ी फूट

नोटबंदी और अन्य मुद्दों को लेकर राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से मुलाकात से पहले ही विपक्षी दलों में फूट पड़ गई। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक राष्ट्रपति से विपक्षी दल की मुलाकात में एनसीपी शामिल नहीं होगी। एनसीपी ने कहा कि किसानों की समस्या को लेकर कांग्रेस पीएम मोदी से मिलने अकेले क्यों गई। क्या दूसरे दलों को किसानों की चिंता नहीं है।

मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक किसानों का कर्ज माफी और मुफ्त बिजली की मांग के लिए कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने अन्य नेताओं के साथ पीएम मोदी से मुलाकात की है। इसके साथ ही 2 करोड़ किसानों के हस्ताक्षर वाला ज्ञापन भी सौंपा है। पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि हमने पीएम मोदी से मुलाकात की और किसानों के कर्ज, सुसाइज और एमएसपी को लेकर भी बात की है। पीएम मोदी ने मामले पर एक्शन लेने का आश्वासन दिया है।

गौरतलब हो कि नोटबंदी के मुद्दे पर राष्ट्रपति के आगे अपना पक्ष रखने के लिए विपक्षी दलों ने राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से समय देने की मांग की थी। बता दें कि राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद के कक्ष में हुई बैठक में विभिन्न विपक्षी दलों के प्रतिनिधियों ने नोटबंदी की वजह से किसानों और आम लोगों को हो रही परेशानियों का मुद्दा राष्ट्रपति के सामने उठाने का फैसला किया था।