"जो अपनी राजनीतिक विरासत बचाना चाहते हैं वो बीजेपी ज्वाइन कर रहे हैं" : राजू भैया

आखिर बीजेपी सीएम फेस को लेकर फैसला क्यों नहीं ले पा रही है ? बीजेपी किस दल के साथ गठबंधन कर सकती है ? सपा-बसपा और कांग्रेस को मात देने के लिए बीजेपी की क्या तैयारी है ? ऐसे तमाम तीखे सवालों के जवाब उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम कल्याण सिंह के पुत्र और यूपी के एटा से सांसद राजवीर सिंह उर्फ राजू भैया ने नारदा न्यूज को दिए है।

"जो अपनी राजनीतिक विरासत बचाना चाहते हैं वो बीजेपी ज्वाइन कर रहे हैं" :  राजू भैया

2017 में होने वाले चुनावी महाभारत में कौन योद्धा कहां से चुनाव लड़ेगा ? यूपी बीजेपी का मास्टर प्लान क्या है ? किस चुनावी प्लेयर को कौन सी जिम्मेवारी मिलने वाली है ? आखिर बीजेपी सीएम फेस को लेकर फैसला क्यों नहीं ले पा रही है ? बीजेपी किस दल के साथ गठबंधन कर सकती है ? सपा-बसपा और कांग्रेस को मात देने के लिए बीजेपी की क्या तैयारी है ? ऐसे तमाम तीखे सवालों के जवाब उत्तरप्रदेश के पूर्व सीएम कल्याण सिंह के पुत्र और यूपी के एटा से सांसद राजवीर सिंह उर्फ राजू भैया ने नारदा न्यूज के पॉलिटिकल एडिटर विकास राज तिवारी से बातचीत में दिए। पेश है बातचीत के मुख्य अंश...

राजवीर जी बीजेपी यूपी में सीएम फेस क्यों नहीं तय कर पा रही है ?  क्या एक अनार सौ बीमार जैसे हालात हैं ? क्या आपने बिहार चुनाव से कोई सबक नहीं लिया है ?

देखिए दूसरे दलों की तरह बीजेपी परिवार आधारित और व्यक्ति आधारित पार्टी नहीं है। हमारी पार्टी में बहुत योग्य और जनाधार वाले नेता हैं। समाजवादी पार्टी एक परिवार की पार्टी है, वहां मुलायम सिंह और अखिलेश यादव ही सबकुछ हैं। बसपा में मायावती के आगे किसी की नहीं चलती। सीएम फेस को लेकर फैसला पार्टी नेतृत्व को करना है। हां, यूपी में ना सपा है ना बसपा है यहां केवल भाजपा है।

राम मंदिर के मुद्दे को आप कब तक लॉलीपॉप की तरह इस्तेमाल करते रहेंगे ?

IMG_1056

भगवान राम का मंदिर तो अयोध्या में है, उसको केवल भव्य रूप देना बाकी है। राम मंदिर राजनैतिक मुद्दा नहीं है ये करोड़ों हिंदुओं की आस्था का मुद्दा है। इस मुद्दे पर तो विपक्ष को भी उदारता का परिचय देते हुए राम मंदिर बनाने में सहयोग करना चाहिए। बाकी राम मंदिर को चुनावी रुप देना गलत है।

कैराना पलायन के मुद्दे को आप कैसे देखते है और यूपी में मुस्लिमों के हालात पर आप क्या कहेंगे ?

सपा, बसपा और कांग्रेस तीनों पार्टियों ने मुस्लिम वोटरों का इस्तेमाल किया है। मुस्लिमों के उत्थान के लिए किसी ने कुछ नहीं किया। आज भी मुस्लिम समाज काफी पिछड़ा हुआ है और खुद को ठगा महसूस कर रहा है। आगामी यूपी चुनाव में मुस्लिम वोटर भी बीजेपी को वोट करेगा। बीजेपी की पैठ हर जाति में है हां किसी जाति में कम ज्यादा जरुर हो सकता है।

समाजवादी पार्टी में जो चल रहा है, और जो हुआ आप उसको किस नजरिए से देखते हैं ?

सपा को टूटना तो था ही। समाजवादी पार्टी चाचा-भतीजा, अंकल जी, पिताजी,  और ताऊ जी तक सिमटी हुई है। इसके पतन की शुरुआत हो चुकी है। यूपी सें सपा साफ है, बसपा खत्म हो चुकी है, कांग्रेस कहां है पता नहीं है, बीजेपी ही एक पार्टी है जो सूबे का विकास कर सकती है। मुलायम सिंह यादव के परिवार में जो दरार आई है उसका मुझे व्यक्तिगत तौर पर कष्ट है।

महागठबंधन की जो चर्चा है उस पर आपकी क्या राय है ? और आप कांग्रेस की हालात को कैसे देखते हैं ?यूपी में जो भी दल हैं, उनको ये अंदाजा लग गया है कि वो बीजेपी के सामने खड़े नहीं हो सकते। ये लोग एक बड़ी पार्टी और जनाधार वाली पार्टी बीजेपी से लड़ने के लिए इक्टठा होना चाह रहे हैं। सपा – बसपा सूबे में खत्म हो चुकी है और कांग्रेस मरी हुई बिल्ली है। राहुल गांधी यूपी में फेल हो चुके हैं, प्रियंका गांधी अगर आती है तो वो भी फुस्स हो जाएंगी।

नोटबंदी को लेकर आपकी सरकार पर कई आरोप लग रहे हैं। अपरिपक्व फैसला बताया जा रहा है, ममता बनर्जी ने पीएम मोदी को बदतर प्रशासक तक बता चुकी हैं। क्या कहेंगे आप ?

नोटबंदी सरकार का एक क्रांतिकारी कदम है, जिसने काले कुबेरों पर चोट किया है। भ्रष्टाचार पर लगाम लगाई है। आतंकवाद पर प्रहार किया है। मैं ये कहना चाहता हूं कि बेहतर भविष्य के लिए थोड़ा कष्ट सहना पड़ रहा है और नोटबंदी का विरोध वो लोग कर रहे है जिन्हें अपने पैसों को ठिकाने लगाने का मौका नहीं मिला। देश की जनता सब कुछ समझ रही है। कांग्रेस, टीएमसी समेत कई दल जो नोटबंदी का विरोध कर रहे है वो जनता के मूड को नहीं भांप पा रहे हैं। देश की जनता नोटबंदी के पक्ष में है और सारी दिक्कतें जल्दी ही खत्म हो जाएंगी।