BJP ने निकाली मोदी की ‘लक्की कुर्सी’, यूपी में 2014 काे दाेहराने की तैयारी

यूपी चुनाव काे लेकर पीएम मोदी 19 दिसंबर को उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले में परिवर्तन रैली करने वाले हैं। इसी काे लेकर मोदी के लिए उनकी लक्की कुर्सी को भी तैयार कर लिया गया है।

BJP ने निकाली मोदी की ‘लक्की कुर्सी’, यूपी में 2014 काे दाेहराने की तैयारी

यूपी चुनाव काे लेकर पीएम मोदी 19 दिसंबर को उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले में परिवर्तन रैली करने वाले हैं। इसी काे लेकर मोदी के लिए उनकी लक्की कुर्सी को भी तैयार कर लिया गया है। बीजेपी कार्यकर्ता चाहते हैं कि पीएम मोदी कानपुर रैली के दौरान उसी कुर्सी पर बैठें जिस कुर्सी पर बैठ कर वह 2014 का चुनाव जीते थे। मीडिया को मिली जानकारी के मुताबिक, कुर्सी से जुड़ा एक पुराना किस्सा है जो पार्टी कार्यकर्ताओं ने खुद बताया। उन्होंने कहा कि पीएम बनने से पहले सबसे पहली ‘विजय शंखनाद’ रैली मोदी ने 19 अक्टूबर 2013 को कानपुर में की थी।

उस रैली के दौरान नरेंद्र मोदी उसी कुर्सी पर बैठे थे। बीजेपी की तरफ से पीएम कैंडिडेट के रूप में वह उनकी पहली रैली थी। उसके बाद बीजेपी ने यूपी में 80 में से 71 सीटें जीत ली थीं। तभी से पार्टी कार्यकर्ताओं ने मान लिया कि वह कुर्सी लकी है। कानपुर के बीजेपी नेताओं ने कुर्सी को संभाल कर रखने के लिए एक ग्लास का चैंबर भी बनवा लिया था। कुर्सी पिछले तीन सालों से पार्टी के जिला कार्यालय में रखी हुई थी। कुर्सी के अलावा वह ग्लास जिससे पीएम मोदी ने रैली के दौरान पानी पिया वह भी रखा हुआ है। उसके अलावा एक डिब्बा और है। उसमें मशहूर ठग्गू के लड्डू रखे हुए हैं। जो कि मोदी को भेंट किए गए थे।

बताया जा रहा है कि कुर्सी को ज्यादा वक्त तक संभालकर रखने के लिए पार्टी ने दिल्ली से मजबूत शीशा मंगाया था। उस शीशे से 6/5.5/3 फीट का बॉक्स बनवाया गया था। मोदी की 19 दिसंबर को होने वाली रैली का कार्यक्रम तय होते ही कुर्सी को बाहर निकलवाकर उसे साफ करवाया गया और पॉलिश भी करवाई गई। बीजेपी जिला अध्यक्ष सुरेंद्र मैथानी से जब इस बारे में मीडिया काे बताया कि, ‘पीएम बनने के बाद मोदी पहली बार कानपुर आ रहे हैं। पार्टी के कार्यकर्ताआें का मानना हैं कि वह कुर्सी पार्टी के लिए लकी है। जब मोदी ने लोकसभा चुनाव में उसका इस्तेमाल किया था तो यूपी में पार्टी ने शानदार जीत दर्ज की थी। हम लोग मानते हैं कि अगर मोदी पर्रिवर्तन यात्रा की रैली में भी उसपर बैठेंगे तो 2017 में होने वाले विधानसभा चुनाव में भी सबसे ज्यादा सीटें जीतेंगे।’

सुरेंद्र ने आगे बताया कि, ‘हम लोगों को इसके लिए एसपीजी या फिर किसी और प्रशासनिक अधिकारी से इजाजत भी नहीं लेनी होगी क्योंकि कानपुर में जो पार्टी के कार्यकर्ता हैं उनके द्वारा ही रैली की सारी तैयारियां की जा रही हैं।’

सुरेंद्र ने उम्मीद जताई कि रैली में लगभग पांच लाख लोग शामिल होंगे। वह रैली निराला नगर के रेलवे ग्राउंड में होनी वाली है। बीते गुरुवार (8 दिसंबर) को पार्टी कार्यकर्ताओं ने रैली की तैयारी शुरू करने से पहले पूजा भी करवाई थी। पार्टी कार्यकर्ता मेडिकल कॉलेज, आईआईटी-कानपुर, इंजीनियरिंग कॉलेजों और कोचिंग सेंटर्स में जा-जाकर रैली में आने का न्योता दे रहे हैं।