ऐसे काले धन को गोरा करते थे कज़िन भाई -बहन

मोहाली में 2000 के नकली नोट छापने का अब-तक का सबसे बड़ा खुलासा हुआ है। जहां कज़िन भाई बहन काले धन को गोरा करने का काम करते थे...

ऐसे काले धन को गोरा करते थे कज़िन भाई -बहन

चडीगढ़ के मोहली में नकली नोट छापने का सबसे बड़ा खुलासा हुआ है। जहां 2000 के नकली नोट छापे जा रहे थे। इस खुलासे में जो दोषी पकड़े गए हैं वो आर्मी फैमली से संबंध रखने वाले है जिनमें एक 21 साल का बीटेक स्टूडेंट्स अभिनव वर्मा और उसकी 20 साल की कजिन विशाखा वर्मा शामिल है जिन्होंने करीब तीन करोड़ रूपए की किमत के नोट स्कैन करके छापे जिसके बाद उन्होंने लोगों से पुराने नोट लेकर बदले में लोगों को नकली नोट थमा दिए। इस तरह उन्होंने कुल 2 करोड़ रुपए मार्केट में चला दिए।

बता दें कि दोनों बहन भाई को पुलिस ने मोहाली के जगतपुरा में पकड़ लिया। जिस वक्त दोनों ऑडी कार में करीब 42 लाख रूपए के जाली नोट लेकर जा रहे थे पुलिस को लालबत्ती से शक हुआ था। इस पैसे का इस्तेमल ब्लैक मनी से व्हाइट करने में होना था। पुलिस ने चंडीगढ़ इंडस्ट्रियल एरिया स्थित इनके ऑफिस से 20 लाख की जाली करंसी सहित, कंप्यूटर, स्कैनर व अन्य सामान भी कब्जे में ले लिया है।

पुलिस के मुताबिक सुचना मिली थी कि युवक-युवती लग्जरी गाड़ी में ब्लैक मनी को व्हाइट करने का काम कर रहे हैं। लग्जरी गाड़ी और उसके ऊपर लालबत्ती देख पुलिस वालों ने समझा कि कोई मंत्री जा रहा है। जब देखा कि पायलट जिप्सी नहीं है तो पुलिस वालों ने रोककर तलाशी ली। कार से 42 लाख की जाली करंसी मिली। छताछ में पता चला कि चंडीगढ़ इंडस्ट्रियल एरिया फेज-1 स्थित एक लाइव वेरल सॉल्यूशन नाम की कंपनी में इनका ऑफिस है। यहीं पर इन्होंने 2000 के नए असली नोट की स्कैनिंग कर 3 करोड़ से ज्यादा के जाली नोट तैयार किए थे।