कांग्रेस के लिए पार्टी बड़ी लेकिन हमारे लिए देश सबसे पहले : पीएम मोदी

पीएम नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए भाजपा सांसदों से कहा- 'कांग्रेस के लिए पार्टी बड़ी है लेकिन हमारे लिए देश सबसे पहले है।'

कांग्रेस के लिए पार्टी बड़ी लेकिन हमारे लिए देश सबसे पहले : पीएम मोदी

पीएम मोदी ने बीजेरी पार्लियामेंटरी मीटिंग में पार्टी सांसदों को 500 और 1000 रुपये के पुराने नोटों को बंद करने के फैसले में संबोधित किया। संबोधन के दौरान पीएम मोदी अपने नोटबंदी के फैसले का बचाव करते नज़र आए।

जानकारी के मुताबिक, मोदी ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए बीजेपी सांसदों से कहा कि इससे पहले, विपक्ष सरकार के 2जी और कोलगेट घोटाले के खिलाफ एकजुट होता था लेकिन अब सरकार के कालेधन और भ्रष्‍टाचार रोकने के खिलाफ एक हो रहा है। कांग्रेस के लिए पार्टी देश से ऊपर है लेकिन हमारे लिए देश का हित सबसे ऊपर है।”

पीएम ने सांसदों ने कहा कि डिजिटल इकॉनॉमी जीवन का तरीका होने चाहिए और इस तरह की अर्थव्‍यवस्‍था पारदर्शी व प्रभावशाली होगी। पीएम ने वामपंथी पार्टियों पर भी निशाना साधा। संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने पीएम के संबोधन के बारे में बताया, "ज्‍योति बसु ने एक बार नोटबंदी की वकालत की थी। लेकिन आज देखिए वामपंथी क्‍या कर रहे हें।"

केंद्र सरकार कैशलेस ट्रांजेक्‍शन के लिए पूरा जोर लगा रही है और इसके लिए कई कदम भी उठा रही है। उल्लेखनीय है कि नोटबंदी के चलते केंद्र सरकार आलोचनाएं झेल रही हैं। विपक्ष लगातार इस मुद्दे पर पीएम मोदी के बयान की मांग कर रहा है। लेकिन प्रधानमत्री ने संसद में चुप्‍पी साध रखी है। पक्ष और विपक्ष दोनों इस मुद्दे पर अपने रूख पर अड़े हुए हैं इसके चलते संसद के शीतकालीन सत्र में कोई काम नहीं हो पाया।

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का कहना है कि उनके पास प्रधानमंत्री मोदी को लेकर सूचना है इससे बीजेपी डर गई है और उन्‍हें बोलने नहीं दे रही। सरकार की ओर से भी विपक्ष पर इसी तरह का आरोप लगाया जा रहा है।

राहुल गांधी के नेतृत्‍व में 16 दिसंबर को कांग्रेस नेताओं ने प्रधानमंत्री मोदी से किसानों के मुद्दे पर बातचीत की। इस प्रतिनिधिमंडल में लोकसभा में कांग्रेस दल के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, राज्‍यसभा में कांग्रेस दल के नेता गुलाम नबी आजाद, कांग्रेस सांसद राज बब्‍बर, प्रमोद तिवारी, ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया, आनंद शर्मा, कैप्‍टन अमरिंदर सिंह शामिल रहे। बैठक के बाद राहुल गांधी ने कहा कि मोदी ने माना है कि किसानों की हालत गंभीर है, लेकिन उन्होंने कर्जा माफ करने की बात पर कुछ नहीं कहा सिर्फ सुना।