नोटबंदी के बाद अब घरों में कैश रखने की सीमा तय !

नोटबंदी के बाद से ही छापेमारी में बड़ी मात्रा में कैश बरामद हो रहा है। सरकार अब घरों में कैश रखने की सीमा भी तय कर सकती है ।

नोटबंदी के बाद अब घरों में कैश रखने की सीमा तय !

नोटबंदी के बाद अब सरकार घरों में कैश रखने की सीमा भी तय कर सकती है। यह फैसला भारी मात्रा में बरामद हो रहे कैश को देखकर लिया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि नोटबंदी के बाद देशभर में हो रही छापेमारी में बड़ी मात्रा में रकम बरामद हो रही है। अब सरकार आने वाले दिनों में घरों में कैश रखने की सीमा तय कर सकती है।

इस संबंध में वित्त मंत्रालय कई विकल्पों पर विचार कर रहा है। जल्द ही इसकी घोषणा भी की जा सकती है। ऐसा होने पर कोई भी व्यक्ति एक निश्चित सीमा से अधिक धनराशि कैश में नहीं रख पाएगा। जानकारी के मुताबिक कैश रखने की सीमा तय करने का विचार वित्त मंत्रालय के विचाराधीन है।

हालांकि, अभी यह स्पष्ट नहीं किया गया है कि घर में नगदी रखने की अधिकतम सीमा क्या होगी लेकिन माना जा रहा है कि घरों में नगदी रखने की अधिकतम सीमा 15 लाख रुपए हो सकती है। गौरतलब है कि एसआइटी ने जुलाई में वित्त मंत्रालय को सौंपी अपनी पांचवी रिपोर्ट में 15 लाख रुपये से ज्यादा कैश रखने के लिए आयकर आयुक्त की अनुमति लेनी की सिफारिश की थी।

ज्ञातव्य है कि एसआइटी के अध्यक्ष सुप्रीम कोर्ट के सेवानिवृत्त न्यायाधीश एम बी शाह और उपाध्यक्ष व उच्चतम न्यायालय के सेवानिवृत्ति न्यायाधीश अरिजीत पसायत ने वित्त मंत्री अरुण जेटली को संयुक्त पत्र लिखकर कहा है कि अगर नकदी रखने की सीमा तय नहीं की गई तो नोटबंदी का सरकार के फैसले का कोई असर नहीं पड़ेगा।

कुछ दिनों के बाद फिर से लोग काला धन जमा करने लगेंगे। सात्थ ही एसआईटी ने अपनी रिपोर्ट में यह भी कहा कि अगर कोई व्यक्ति अपने खाते से तीन लाख रुपये से अधिक निकालता है तो बैंक को इसे संदेहास्पद मानकर फाइनेंशियल इंटेलीजेंस यूनिट और आयकर विभाग को सूचित करना चाहिए।