पीएम मोदी का राष्ट्र के नाम संबोधनः घर बनाने के लिए छूट, भ्रष्टाचारी बख्शे नहीं जाएंगे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा कि दीपावली के बाद देश ने एक बड़ा फैसला लिया। पीएम ने कहा कि अब नए संकल्प और उमंग के साथ देश के लोग नए वर्ष में कदम रखेंगे।

पीएम मोदी का राष्ट्र के नाम संबोधनः घर बनाने के लिए छूट, भ्रष्टाचारी बख्शे नहीं जाएंगे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा कि दीपावली के बाद देश ने एक बड़ा फैसला लिया। पीएम ने कहा कि अब नए संकल्प और उमंग के साथ देश के लोग नए वर्ष में कदम रखेंगे। बुराई के खिलाफ देशवासियों ने सरकार का पूरा साथ दिया एवं सरकार और देशवासी भ्रष्टाचार के खिलाफ कंधा से कंधा मिलाकर लड़ रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में बड़ी घोषणा करते हुए कहा कि अब शहरों में नौ लाख रुपए तक का घर बनाने के लिए ब्याज दर में 4 प्रतिशत छूट दी जाएगी। जबकि 12 लाख रुपए तक लोन पर 3 फीसदी की छूट दी जाएगी। उन्होंने कहा कि गांवों में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत साल 2017 से 33 फीसदी ज्यादा घर बनाए जाएंगे।

पीएम ने आगे कहा कि बड़े नोट से केवल महंगाई और कालाधन बढ़ रहा था। बड़ा नोट गरीबों का हक छीन रहा था। कैश अगर अर्थव्यवस्था के साथ तो देश का विकास होता है लेकिन देश में वैसा नहीं हो रहा था। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि हम सच्चाई से कब तक मुंह मोड़ते रहेंगे। ये सरकार सज्जनों की मित्र है और दुर्जनों को सज्जनता के रास्ते पर लौटाने के लिए उपयुक्त वातावरण को तैयार करने के पक्ष में है। कानून अपना काम करेगा। सरकार की प्राथमिकता ईमानदार लोगों को प्रतिष्ठित करने की है।

प्रधानमंत्री ने राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में पूछा कि क्या आपको नहीं लगता कि देश की भलाई के लिए ईमानदारी के आंदोलन को और अधिक ताकत देने की जरूरत है। नोटबंदी के फैसले को तारीफ करते हुए पीएम ने कहा कि भारत ने जो करके दिखाया है ऐसा विश्व में तुलना करने के लिए कोई उदाहरण नहीं।

पीएम ने आगे कहा कि 'बैंकिंग व्यवस्था को सामान्य करने पर ध्यान केंद्रित किया जाए। विशेषकर ग्रामीण इलाकों में, दूर-दराज वाले इलाकों में प्रो-एक्टिव होकर हर छोटी से छोटी कमी को दूर किया जाए'। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार, कालाधन, जालीनोट के खिलाफ लड़ाई में आप एक कदम भी पीछे नहीं रहना चाहते हैं, आपका ये प्यार आशीर्वाद की तरह है। पीएम मोदी ने कहा कि देशवासियों ने जो कष्ट झेला है, वो भारत के उज्जवल भविष्य के लिए नागरिकों के त्याग का उदाहरण है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि जब हम कहते हैं कि 'कुछ बात है कि हस्ती मिटती नहीं हमारी'... इस बात को देशवासियों ने जीकर दिखाया है। दीवाली के बाद की घटनाओं से ये सिद्ध हो चुका है कि करोड़ों देशवासी ऐसी घुटन से मुक्ति के अवसर की तलाश कर रहे थे. उन्होंने कहा कि दिवाली के तुरंत बाद हमारा देश ऐतिहासिक शुद्धि यज्ञ का गवाह बना।

ज्ञात हो कि नोटबंदी के 50 दिन पूरे होने पर सरकार ने एटीएम से कैश निकालने की सीमा बढ़ा दी। 30 दिसंबर को सरकार ने एलान किया कि अब नए साल से लोग हर रोज एटीएम से 4500 रुपए निकाल सकेंगे। नोटबंदी के दौरान एटीएम से 2500 रुपए तक कैश निकालने की लिमिट तय की गई थी। जो 1 जनवरी बढ़ जाएगी और लोगों को राहत मिलेगी। हालांकि बैंक से कैश निकालने की लिमिट नोटबंदी के बाद भी हर हफ्ते 24 हजार रुपये ही है।

उल्लेखनीय है कि इस साल 8 नवंबर को 8 बजे रात में देश को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने नोटबंदी का ऐलान किया था। पीएम मोदी ने कालेधन और भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने के लिए 500 और हजार रुपए के नोट को अवैध करार देते हुए उसे प्रचलन से बाहर करने की घोषणा की थी।