नोटबंदी के नाम पर परियों की कहानी सुना रही है केंद्र सरकार: महेश भट्ट

महेश भट्ट इलाहाबाद में सांस्कृतिक केंद्र में आयोजित एक कार्यक्रम में शामिल होने आए थे वहां उन्होंने नोटबंदी को लेकर बयान दिया...

नोटबंदी के नाम पर परियों की कहानी सुना रही है केंद्र सरकार: महेश भट्ट

नोटबंदी को लेकर अब तक कई तरह के बयान आ चुके है। सभी अपनी- अपनी राय व्यक्त कर रहे हैं। कुछ लोग समर्थन कर रहे हैं तो कुछ लोग इसके बिल्कुल विरोध में हैं। इसी बीच फिल्म निर्माता महेश भट्ट ने भी इलाहाबाद के सांस्कृतिक केंद्र में आयोजित एक कार्यक्रम में शामिल होकर नोटबंदी को लेकर अपने विचार व्यक्त किए। मुल्क के हालात पर सरकार पर निशाना साधते हुए महेश ने कहा कि जब भी निर्णय लें तो यह देखना चाहिए कि सबसे कमजोर व्यक्ति को इससे दिक्कत तो नहीं है, तभी निर्णय सही होता है।

बता दें कि टीवी और अखबारों के माध्यम से उन्हें पता चला कि गांवों में हालात काफी खराब हैं। लोग समझ ही नहीं पा रहे हैं कि ये जो काली रात उभरी है, उसकी सुबह कब होगी। उनकी बात सरकार तक पहुंचाना हम सबका कर्तव्य है और सरकार को आम लोगों कि परेशानियों को समझना चाहिए और ध्यान रखना चाहिए की हमारे किसी भी फैसले से उन्हें कोई नुकसान ना हो।

हालांकि मुंबई के जिस हिस्से में वह रहते हैं, वहां ऐसी दिक्कत नहीं है।  उन्होंने बताया कि नोटबंदी के असर से फिल्म जगत भी अछूता नहीं है। कई बार शूटिंग कैंसल हुई है। दिहाड़ी पर काम करने वाले कर्मचारियों को मेहनताना देने में भी दिक्कतें आ रही हैं। नोटबंदी से देश में जो माहौल है उस पर फिल्म बनाने की बात पर उन्होंने कहा कि हमारा काम मनोरंजन करना है। कुछ ऐसा झूठ बोलना जो लोगों को पसंद आए। हालांकि, रियलस्टिक फिल्में बनती हैं, लेकिन वो उतना बिजनेस नहीं करतीं। महेश भट्ट ने यह भी कहा कि चुनाव में अगर किसी पार्टी को आपने वोट दिया है तो उस पार्टी को भी आपका ध्यान रखना चाहिए और परेशानियों से बचाना चाहिए।