'हॉर्ट ऑफ एशिया सम्मेलन', भारत की पाक को घेरने की तैयारी

पंजाब के अमृतसर में होने वाले 'हॉर्ट ऑफ एशिया सम्मेलन' में भारत करेगा पाक की घेराबंदी...

पंजाब के अमृतसर में होने वाले ‘हॉर्ट ऑफ एशिया’ सम्मेलन में भारत और अफगानिस्तान आतंकवाद पर पाकिस्तान को असरदार ढंग से घेरने का प्रयास करेंगे, वहीं ईरान के चाबहार बंदरगाह परियोजना में रूस और पश्चिम एवं मध्य एशियाई देशों को शामिल करने के बारे में भी बात करेंगे।

भारत में अफगानिस्तान के राजदूत शाइदा मोहम्मद अब्दाली ने कहा कि केवल अफगानिस्तान और भारत बल्कि इस पूरे क्षेत्र की समृद्धि के रास्ते की सबसे बड़ी चुनौती आतंकवाद है। सम्मेलन में आतंकवाद निरोधक क्षेत्रीय फ्रेमवर्क को मंजूरी दिलाने का प्रयास किया जाएगा। उन्होंने कहा, पिछले साल इस्लामाबाद में हुए पांचवें सम्मेलन में यह फ्रेमवर्क बनाने पर सहमति बनी थी।

बता दें, सम्मेलन तीन और चार दिसम्बर को अमृतसर में आयोजित किया जाएगा जिसका उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी संयुक्त रूप से करेंगे। मंत्रीस्तरीय बैठक में भारत का प्रतिनिधित्व वित्त मंत्री अरुण जेटली करेंगे जबकि अफगानिस्तान की ओर से वहां के विदेश मंत्री हिकमत खलील करजई शामिल होंगे। सरताज अजीज भी इस सम्मेलन में भाग लेंगे।

वहीं पाकिस्तान के मुख्य विदेश नीति निर्धारक सरताज अजीज के दौरे से ठीक दो दिन पहले भारत ने बुधवार को स्पष्ट किया कि इस्लामाबाद से उसे अधिकारिक रूप से किसी तरह की द्विपक्षीय बैठक का कोई अनुरोध नहीं मिला है।

मालूम हो, जम्मू एवं कश्मीर में उड़ी स्थित सैन्य शिविर पर आतंकी हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच संबंधों में काफी खटास गया है। सीमा पार पाकिस्तान से लगातार आतंकी हमले का हवाला देते हुए हाल में भारत ने भी नवम्बर में इस्लामाबाद में आयोजित होने वाले दक्षेस सम्मेलन का बहिष्कार किया था।