जम्मु कश्मीर: आतंकी हिंसा में मारे गए 17 लोगों के रिश्तेदारों काे मुआवजा देने का ऐलान

जम्मू और कश्मीर सरकार ने घाटी में आतंकवाद संबंधित हिंसा में मारे गए 17 लोगों के रिश्तेदारों के लिए मुआवजा देने का ऐलान किया है।

जम्मु कश्मीर: आतंकी हिंसा में मारे गए 17 लोगों के रिश्तेदारों काे मुआवजा देने का ऐलान

जम्मू और कश्मीर सरकार ने घाटी में आतंकवाद संबंधित हिंसा में मारे गए 17 लोगों के रिश्तेदारों के लिए मुआवजे देने का ऐलान किया है। उन सभी मारे गए लोगों में हिजबुल मुजाहिदीन कमांडर बुरहान वानी का भाई भी शामिल है। इस मुआवजे पर आपत्ति जताने के लिए 7 दिनों का वक्त दिया गया है।

मीडिया के मुताबिक, पुलवामा के उपायुक्त की ओर से जारी नोटिफिकेशन में कहा गया है कि जिला स्तरीय समिति (डीएलएससीसी) ने आतंकवाद-संबंधित घटनाओं में मारे गए लोगों के रिश्तेदारों के लिए मुआवजे को मंजूरी दी है। मारे गए 17 लोगों में खालिद मुजफ्फर वानी का भी नाम है जो पिछले साल 13 अप्रैल को त्राल में सुरक्षाबलों की फायरिंग में मारा गया था।



मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि नियम के अनुसार ऐसे मामलों में 4 लाख रुपए का मुआवजा दिया जाता है। सेना का कहना है कि खालिद हिजबुल मुजाहिदीन के लिए काम करता था और एनकाउंटर में मारा गया। हालांकि स्थानीय लोगों का कहना है कि उसका आतंकवाद से कुछ लेना देना नहीं था।

रिपोर्ट के अनुसार, खालिद (25) इग्नू से राजनीति शास्त्र में मास्टर्स कर रहा था। मरने वालों की सूची में शब्बीर अहमद मंगू का भी नाम है। आरोप है कि उसकी मौत पुलवामा में 17 अगस्त को सुरक्षाबलों की पिटाई के कारण हुई थी। इस मामले में जांच चल रही है।

ज्ञात हाे कि बुरहान वानी 8 जुलाई को सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में मारा गया था। उसकी मौत के बाद से कश्मीर घाटी में हिंसा का लंबा दौर चला था जिसमें कम से कम 86 लोगों की मौत हो गई थी।