केजरीवाल को नैतिकता के आधार पर इस्तीफा देना चाहिए: तिवारी

मनोज तिवारी ने AAP के खातों में गोलमाल के लिए अरविंद केजरीवाल को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि केजरीवाल को नैतिकता के आधार पर सीएम पद से इस्तीपा दे देना चाहिए।

केजरीवाल को नैतिकता के आधार पर इस्तीफा देना चाहिए: तिवारी

बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष मनोज तिवारी ने मंगलवार को केशवपुरम के कार्यकर्ता सम्मेलन में आम आदमी पार्टी पर जमकर निशाना साधा। तिवारी ने AAP के खातों में गोलमाल के लिए साधा दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल को जिम्मेदार ठहराया और नैतिकता के आधार पर उनसे इस्तीफा देने को कहा।

मनोज तिवारी ने कहा कि केजरीवाल ने जनता को ऊंचे-ऊंचे आदर्शों की बातों से गुमराह करके धोखा दिया। ऐसे में अब उन्हें पद पर बने रहने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है, जिनके चंदा मामले पर चुप्पी साधने और चंदे के रकम को छुपाने के लिए उन पर उनके राजनैतिक गुरु अन्ना हजारे ने भी पत्र लिखकर सवाल उठा दिया है।

तिवारी ने आगे कहा कि बीजेपी ने लगातार कहा है कि आम आदमी पार्टी के खातों में भारी धांधलियां हैं और यह सब जानबूझकर किया गया है। बीते दिनों सामने आए तथ्यों ने बीजेपी के रुख की पुष्टि की है और इसके लिए आज आम आदमी पार्टी जनता के प्रति जवाब देह है।

तिवारी ने कहा कि केजरीवाल दाखिल किए गए खातों में धांधलियों के लिए अपनी जिम्मेदारी से बच नहीं सकते क्योंकि यह धांधलियां पार्टी के स्थापना वर्ष से ही होती रही हैं। पार्टी ने जो संशोधन अब किए हैं वह स्वतः नहीं किए हैं आयकर विभाग के दबाव में किए हैं। पार्टी को चार मौके दिए गए लेकिन पार्टी की तरफ से कोई जबाव नहीं दिया गया, संशोधन तब किया जब अंतिम चेतावनी दे दी गई। आम आदमी पार्टी ने प्रारंभ से ही तीन तरह के खाते रखे हैं।

पहला खाता जनता को दिखाने के लिए, दूसरा खाता चुनाव आयोग एवं आयकर विभाग के लिए और तीसरा खाता जिसमें असली जमा खर्च है वह अरविंद केजरीवाल के अपने लिए रखा। ‘आप’ के फंड के खाते संदेहास्पद हैं अब इस पार्टी ने स्वयं भी गलतियों को स्वीकार किया है। 2013 से ही ‘आप’ के चंदे के स्रोत संदेहास्पद थे। पार्टी को मिले प्रारंभिक 2 करोड़ रुपए के चंदे को हिसाब में दो लाख रुपए लिखे जाने को अनजाने में हुई गलती नहीं कहा जा सकता।